एबी ज्ञानेश्वर (AB Gyaneshwar) को म्‍यांमार सरकार देगी सर्वोच्च धार्मिक उपाधि

कुशीनगर: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कुशीनगर वर्मी मंदिर के मठाधीश एवं भिक्षु संघ अध्यक्ष एबी ज्ञानेश्वर (AB Gyaneshwar) को म्‍यांमार सरकार ने अपने यहां का सर्वोच्च धार्मिक उपाधि ‘अग्ग महारथा गुरु’ देने की घोषणा की है। यह घोषणा वर्मा सरकार ने बीते चार जनवरी को अपनी आजादी की सालगिरह के दिन किया है। घोषणा होने पर उनके चाहने वालों का बधाई देने का तांता लग गया। यह सम्मान भन्ते को मार्च में रंगून में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान दिया जाएगा। यह सम्मान पहली बार किसी भारतीय को मिला है।

यह भी पढ़ें: ओडिशा एफसी को हराकर ईस्ट बंगाल की पहली जीत, अब एफसी गोवा का करेगी सामना

भदंत ज्ञानेश्वर (AB Gyaneshwar) को उनके गुरु भिक्षु चन्द्रमणि म्यामार से 1963 में लाए थे कि तभी से ये भारतीय बनकर रहने लगे। इनको वर्मा सरकार (म्यामार) ने समय समय पर कई उपाधि से नवाजा है। सबसे पहले 1997 में वर्मा सरकार अग्ग महापंडित से नवाजा उसके बाद 2005 में अग्ग महासधम्मा ज्योतिका के अलावा 2016 में अभिधजा अंग महासधम्मज्योतिका मिल चुका है। इसमे मिले दान से भदंत ने अनेक प्रकार के धार्मिक, सांस्कृतिक व शैक्षिक कार्य किए हैं। अब उन्हें अग्ग महारथा गुरु से सम्मानित किया गया है, जो वर्मा देश का सबसे बड़ा धार्मिक सम्मान है।

यह भी पढ़ें: जल्द से जल्द किसानों की मांगे मानकर देश के अन्नदाता को राहत प्रदान करे केंद्र-बेनीवाल

Related Articles

Back to top button