नहीं कर सकते अयोध्या राम मंदिर के फैसले का इंतजार , वीएचपी

0

देश में अयोध्या के राम मंदिर का मुद्दा आस्था और राजीतिक प्रसंग का अहम हिस्सा बन गया है । देश में लोकसभा चुनाव की उलटी गिनती शुरू होते ही फिर से इस मुद्दे ने करवट ली है ।

इस मुद्दे पर आज विश्व हिन्दू परिषद् ने दिल्ली में प्रेस वार्ता की । कार्यकारी अध्यक्ष अलोक कुमार ने कहा की  मंदिर की लड़ाई को हिंदू समाज लंबे समय से लड़ रहा है, यह लोकतंत्र की लड़ाई है। संत समाज और जनता हमारे साथ है। हम मंदिर के लिए और इंतजार नहीं कर सकते और सरकार जल्द से जल्द इसपर कानून बनाए।

वीएचपी के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि प्रयागराज के कुंभ में 31 जनवरी और 1फरवरी को संत समाज मिलकर धर्म संसद में मंदिर के मुद्दे पर आगे की रणनीति पर फैसला करेगा। आलोक शर्मा ने कहा कि मंदिर मुद्दे पर सभी सांसदों से बात की जा रही है अभी वाराणसी के सांसद नरेन्द्र मोदी जी मुलाकात नहीं हो पाई है ।

मंदिर में हो रही रूकावट की जिम्मेदार कांग्रेस ………….

भाजपा के लिए सबसे बड़ा और अहम् मुद्दा है राम मंदिर इसको लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि …

राम मंदिर काम शुरू न होने में सबसे बड़ा कारण  कांग्रेस के वकील जो सुप्रीम कोर्ट में बधाये उत्पन्न कर रहे है । इन्ही कारणों के  चलते राम मंदिर की सुनवाई धिमी गति से चल रही है ।

बता दें कि महाराष्ट्र और केंद्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने भी राम मंदिर के लिए अध्यादेश लाने की मांग की है।

 

loading...
शेयर करें