‘नारायणी सेना’ करेगी पश्चिम बंगाल में अमित शाह का बेड़ा पार, जानिए क्यों है इसका इतना प्रभाव

कोलकाता : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने गुरुवार को एक नई सीएपीएफ बटालियन (CAPF Battalion) की घोषणा की, जिसका नाम नारायणी सेना (Narayani Sena) के नाम पर रखा जाएगा, जो कि कूच बिहार की तत्कालीन रियासत के योद्धाओं की थी।

बंगाल चुनाव (Bengal election) प्रचार के लिए पश्चिम बंगाल (West Bengal) के कूच बिहार जिले में एक रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वे पूर्वी क्षेत्र के लिए CAPF प्रशिक्षण केंद्र का नाम चीला रॉय के साथ जोड़ेंगे, जो कोच राजवंश के राजा नारा नारायण के छोटे भाई थे। उन्होंने कहा कि हमने पंचानन ठाकुर के जन्म स्थान पर एक भव्य स्मारक बनाने का फैसला किया है। शाह ने आगे कहा कि नारायणी सेना (Narayani Sena) ने यहां मुगलों को रोका था, इसकी स्मृति में एक सीएपीएफ बटालियन का गठन किया जाएगा। इसी के साथ पूर्वी जोन के लिए सीएपीएफ प्रशिक्षण केंद्र का नाम चीला रॉय (Chila Roy) के साथ जोड़ेंगे।

राजबंशी समुदाय से जुड़ी हुई है ‘ (Narayani Sena) ‘

शाह ने ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) सरकार पर बंगाल के लोकप्रिय त्योहार, राश मेला को बढ़ावा नहीं देने का आरोप लगाया और जोर दिया कि केंद्र ‘राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर’ पर इस मेले को बढ़ावा देगी।

अमित शाह ने कूच बिहार में मदन मोहन मंदिर का दौरा करने के बाद कहा कि यह मेला एक अनूठा त्योहार है लेकिन बंगाल सरकार ने इसे पर्यटन के दृष्टिकोण से बढ़ावा देने के लिए कुछ नहीं किया। हमने राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर मेला को बढ़ावा देने और इसे एक पर्यटन स्थल बनाने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़े : राहुल गांधी के फैसले पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने जताई कड़ी आपत्ति

इससे पहले दिन में अमित शाह ने कूच बिहार से चौथी पोरीबोर्टन यात्रा को हरी झंडी दिखाई और कहा कि यह पहल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बाहर करने के बारे में नहीं है, बल्कि बंगाल को ‘सोनार बांग्ला’ (Sonar bangla) बनाने की है। बतादें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Elections) का ऐलान तो अभी तक नहीं हुआ है, लेकिन राज्य की 294 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव प्रचार चरम पर है।

Related Articles

Back to top button