नेशनल डोप टेस्ट लैबोरेटरी से प्रतिबंध हटने की उम्मीदों को झटका

वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (WADA) की ओर से नेशनल डोप टेस्ट लैबोरेटरी (NDTL) पर लगाए गए प्रतिबंध हटने की उम्मीदें बुरी तरह चरमरा गई हैं. NDTL की ओर से किए गए आईसोटोप रेश्यो मॉस स्पेक्ट्रोमेट्री (IRMS) की टेस्टिंग में पॉजिटिव पाए गए चार खिलाडिय़ों के सैंपल वाडा की टेस्टिंग में नेगेटिव पाए गए हैं. इन चारों खिलाडिय़ों पर नाडा की ओर से प्रतिबंध लगाया जा चुका है. अब नाडा इन चारों खिलाडिय़ों से प्रतिबंध हटाने की तैयारी कर रहा है.

 

रिपोर्ट्स के अनुसार अब NDTL लैब को वाडा के लैब एक्सपर्ट ग्रुप के समक्ष टेस्टिंग की प्रक्रिया को सही साबित करना होगा. अगर NDTL ऐसा करने में विफल रहती है तो उसे खतरनाक परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं. ऐसे में लैब पर वाडा नियमित या फिर काफी बड़े अंतराल का प्रतिबंध लगा सकता है. वाडा NDTL के भाग्य पर इसी माह फैसला ले सकता है. इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

जानकारी के अनुसार वाडा ने NDTL में एक जनवरी 2016 से 19 अगस्त 2019 तक किए गए 38 आईआरएमएस टेस्ट का डाक्यूमेंटेशन पैकेज मांगा था. सूत्र बताते हैं कि इन 38 में से 12 सैंपलों पर वाडा ने शक जताते हुए इनके सैंपल मांगे. इनमें से NDTL ने चार सैंपल वाडा को दिए. इन चारों सैंपल को रोम लैब में टेस्टिंग के लिए भेजा गया. ये चारों सैंपल NDTL में पॉजिटिव थे, लेकिन रोम लैब में ये चारों नेगेटिव पाए गए. हालांकि सूत्र बताते हैं कि ये चारों खिलाड़ी कोई नामी नहीं है. इनमें दो एथलेटिक्स (डिस्कस थ्रोअर, डिकेथलन), एक फेंसर और एक साइकिलिस्ट है. NDTL वाडा की भेजी रिपोर्ट नाडा को दे दी है. नाडा इन चारों से प्रतिबंध हटाने जा रहा है. हालांकि NDTL इन टेस्टों की प्रक्रिया को सही साबित करने को कोई कसर नहीं छोड़ेगा.

Related Articles