दिल्ली में हो लौह पुरुष के नाम पर राष्ट्रीय स्मारक: अनुप्रिया पटेल

आज आजादी के 70 साल बाद भी उस महान व्यक्ति की देश की राजधानी दिल्ली में राष्ट्रीय स्मारक नहीं है।

लखनऊ: अपना दल (एस) अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल के नाम पर नई दिल्ली में राष्ट्रीय स्मारक बनाये जाने की वकालत की है।

पटेल ने सरदार पटेल की 70वीं पुण्यतिथि पर लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में कहा “जिस महापुरुष ने देश की 562 रियासतों का बगैर किसी खूनी क्रांति के एकीकरण किया, आज आजादी के 70 साल बाद भी उस महान व्यक्ति की देश की राजधानी दिल्ली में राष्ट्रीय स्मारक नहीं है। यह बहुत ही दुर्भाग्य की बात है। इसके लिए हमें गांव-गांव में आवाज उठानी होगी।”

उन्होने कहा कि दुनिया का सबसे खुबसूरत नक्शा भारत का है। इसका श्रेय लौहपुरुष को जाता है। सरदार पटेल के राजधानी दिल्ली में राष्ट्रीय स्मारक के निर्माण के लिए हम संसद में कई बार आवाज उठा चुके हैं। इस मुद्दे पर प्रदेश के कोने-कोने में उठाने की जरूरत है।

अनुप्रिया पटेल ने हजरतगंज स्थित पटेल की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की

पटेल ने हजरतगंज स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। उन्होने कहा कि देश में सामाजिक एवं शैक्षिक आधार पर वंचित लोगों के लिये आरक्षण का प्रावधान किया गया लेकिन बड़े दु:ख की बात है कि आज नौकरियों के लिये विभिन्न राज्यों की प्रतियोगी परीक्षाओं में पिछड़े वर्ग एवं अनुसूचित जाति जनजाति के अभ्यर्थियों को कट-ऑफ अंक सामान्य वर्ग से ज्यादा लाना पड़ रहा है। यह गंभीर विसंगति है और चिंता का विषय है। इसके लिए निरंतर आवाज उठाने की जरूरत है।

उन्होने कहा कि पिछड़ों की समस्याओं के निदान के लिए अपना दल (एस) के सड़क से लेकर संसद तक उठाई गई जिसकी वजह से राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा प्राप्त हुआ। पटेल ने केन्द्र सरकार में पिछड़ा वर्ग मंत्रालय के गठन की मांग की।

यह भी पढ़े: 

 

Related Articles

Back to top button