बिहार में इस मुस्लिम संघटन ने JDU-BJP गठबंधन को दिया समर्थन

मोर्चा से जुड़े लाखों मुसलमान विकसित बिहार के सपने को पूरा करने के लिए नीतीश कुमार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलेंगे।

पटना: राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आरक्षण मोर्चा ने बिहार विधानसभा चुनाव में जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को समर्थन देने की घोषणा की है। मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष परवेज सिद्दीकी ने आज जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह से मिल कर अपना समर्थन पत्र उन्हें सौंपा और कहा कि नीतीश कुमार ने मुसलमानों के हित में अच्छे कार्य किए हैं, जिसे देखते हुए मोर्चा ने जदयू को समर्थन देने का फैसला लिया है। मोर्चा से जुड़े लाखों मुसलमान विकसित बिहार के सपने को पूरा करने के लिए नीतीश कुमार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलेंगे।

इस मौके पर जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने परवेज सिद्दीकी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि लोकतंत्र के महापर्व के दौरान अल्पसंख्यक मोर्चा का समर्थन खास मायने रखता है । इससे इस बात की तस्दीक होती है कि बिहार के अकलियत इस बात को बखूबी जानते हैं कि उनका सच्चा हिमायती कोई है तो वह नीतीश कुमार ही हैं। नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री बनने से पहले अल्पसंख्यकों के नाम पर केवल राजनीति होती थी उनकी बेहतरी के लिए कोई काम नहीं होता था।

किशनगंज में AMU के लिए 224 एकड़ जमीन

जदयू के प्रदेश अध्यक् ने कहा कि 15 वर्ष पूर्व अल्पसंख्यक कल्याण का बजट महज 3.45 करोड़ रुपए था, जो अब बढ़कर 532 करोड़ रुपए से अधिक का हो गया है। उन्होंने कहा कि पिछले 15 वर्ष में 10 हजार से ज्यादा तालीमी मरकज की स्थापना हुई है और 2460 नए मदरसों की स्वीकृति दी गई । इसी तरह अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं के संघ लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा पास करने पर एक लाख तथा बिहार लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा पास करने पर 50 हजार रुपए देने की व्यवस्था की गई है। वहीं, किशनगंज में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की शाखा खोलने के लिए 224 एकड़ से अधिक जमीन मुफ्त में दी गई है।

पूरे कार्यकाल में सांप्रदायिक दंगे की कोई घटना नहीं

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार ने सांप्रदायिक सद्भाव को हमेशा हर चीज से ऊपर रखा। उनके पूरे कार्यकाल में सांप्रदायिक दंगे की कोई घटना नहीं हुई। उन्होंने कहा कि वर्ष 1989 में हुए भागलपुर दंगा के पीड़ितों को नीतीश कुमार के कार्यकाल में ही न्याय मिला। इस बार के चुनाव में श्री कुमार सात निश्चय-2 के संकल्प के साथ जनता के बीच आए हैं। इसमें अल्पसंख्यकों के साथ साथ समाज के सभी वर्गों के विकास के नए आयाम खुलेंगे।

इस मौके पर जदयू के प्रवक्ता अजय आलोक और मोर्चा को जदयू से जोड़ने में अहम भूमिका निभाने वाले प्रदेश सचिव सैयद नजम, जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ की नेत्री शफक बानो, युवा जदयू के प्रदेश महासचिव धीरज सिंह राठौर और रंजीत सिंह भी मौजूद थे।

ये भी पढ़े : केन्द्र सरकार झारखंड के साथ कर रही सौतेला व्यवहार : सुबोधकांत

Related Articles