विपक्ष की एकता में पड़ी दरार, बीजेपी को मिला इस बड़ी पार्टी का साथ

मुंबई: अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव के चलते केंद्र की सत्तारूढ़ मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष एकजुट होता नजर आ रहा है। यहां तक कि बीजेपी की अगुवाई वाले राजग की घटक शिवसेना भी विपक्ष के सुर में सुर लगाकर बीजेपी सरकार को निशाना बनाने का कोई मौका छोड़ नहीं रही है। लेकिन इसी बीच एक ऐसी खबर सामने आई है जिसे विपक्ष की एकता में दरार के रूप में देखा जा रहा है।

महाराष्ट्र विधान परिषद की छह सीटों पर हो रहे चुनाव में भाजपा और शिवसेना भले ही एक-दूसरे के विरोध में खड़े नजर आ रहे हो लेकिन इस चुनाव में भाजपा को एक ऐसी पार्टी का साथ मिला है जो हमेशा से ही कांग्रेस के साथ खड़ी नजर आती थी।

मिली जानकारी के अनुसार, महाराष्ट्र विधान परिषद के नासिक सीट का चुनाव भाजपा और शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) एकसाथ मिलकर चुनाव लड़ रही हैं। दोनों ने इस गठबंधन का ऐलान कर दिया है। बताया जा रहा है कि भाजपा और एनसीपी के बीच यह गठबंधन सिर्फ शिवसेना को हराने के लिए किया गया है।

एक न्यूज चैनल का कहना है कि भाजपा और एनसीपी के बीच हुए इस गठबंधन का सीधा संबंध जल्द ही होने वाले पालघर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव से है। यहां भाजपा के दिवंगत सांसद चिंतामण वनगा के निधन के कारण इस सीट पर उप चुनाव हो रहा है।

भाजपा यहां से उनके बेटे श्रीनिवास को उपचुनाव में उम्मीदवार बनाना चाहता था लेकिन चिंतामण वनगा के परिवार ने बीजेपी का साथ छोड़कर  का दामन पकड़ लिया। शिवसेना ने उपचुनाव में श्रीनिवास को उम्मीदवार भी घोषित कर दिया है। इसी बात को लेकर भाजपा और शिवसेना में ठनाठनी चल रही है।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र विधान परिषद की जिन सीटों पर चुनाव हो रहा है वे ओस्मानाबाद- बीड- लातुर सीट, रायगढ -रत्नागिरि- सिंधुदुर्ग, नासिक, प्रभानी- हिंगोली, अमरावती और वर्धा-चंद्रपुर-गढचिरौली हैं। मतगणना 24 मई को होगी।

Related Articles