BHU में नीता अंबानी को बनाया Visiting professor तो भड़़क उठे छात्र, जानें पूरा मामला

रिलायंस इंड्रस्टीज की कार्यकारी निदेशक नीता अंबानी का BHU में विरोध शुरू हो गया है। विश्वविद्यालय में नीता अंबानी को विजटिंग प्रफेसर (Visiting professor) बनाए जाने के खिलाफ छात्र वीसी (V.C) आवास के बाहर धरने पर बैठ गए।

मुंबई: रिलायंस इंड्रस्टीज की कार्यकारी निदेशक नीता अंबानी का BHU में विरोध शुरू हो गया है। विश्वविद्यालय में नीता अंबानी को विजटिंग प्रफेसर (Visiting professor) बनाए जाने के खिलाफ छात्र वीसी (V.C) आवास के बाहर धरने पर बैठ गए। वीसी आवास पर छात्रों के धरने के साथ ही विश्वविद्यालयों के आला अधिकारी छात्रों को समझाने के लिए मौके पर पहुँच गए।

नीता अंबानी
नीता अंबानी

 

रिपोर्टस के मुताबिक विश्वविद्यालय के छात्र अभिषेक से बात चीत के दौरान छात्र ने बताया कि विश्वविद्यालय में योग्यता नहीं बल्कि पूंजीपतियों को जोड़ा जा रहा है। इसके लिए उनके घर की महिलाओं को विश्ववविद्यालय में विजटिंग प्रफेसर बनाने का प्रस्ताव भेजा जा रहा है। जिसका हम छात्र विरोध कर रहे है। जब तक इन प्रस्तावों को रद्द नहीं किया जा सकता है। हालांकी खबरों की मानो तो रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के प्रवक्ता नीता अंबानी ने कहा है कि मीडिया में चल रही सभी खबरें झूठी हैं।

BHU के Visiting professor बनाने का प्रपोज़ल भेजा

दरअसल मीडिया में पिछले कई दिनों से खबरें थीं कि बीएचयू (BHU) के प्रोफेसर्स ने नीता अंबानी को  विजिटिंग प्रोफेसर  (Visiting professor)  बनाने का प्रपोज़ल भेजा है। लेकिन ये सभी खबरें निराधार हैं। खुद  रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने बयान जारी करके इस तरह की खबरों से इनकार किया है। रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन नीता अंबानी ने हाल ही में तब सुर्खियां बटौरीं जब उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बने डिजिटल प्लेटफॉर्म ‘हरसर्किल’ लॉन्च किया था।

यह भी पढ़े

‘हरसर्किल’  अपनी तरह का यह पहला डिजिटल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म है। महिलाओं के सशक्तीकरण और वैश्विक स्तर पर महिलाओं के उत्थान के लिए इस प्लेटफॉर्म को सबके सामने लाया गया है। सहभागिता, नेटवर्किंग और आपसी सहयोग के लिए ‘हरसर्किल’ प्लेटफॉर्म महिलाओं को एक सुरक्षित माध्यम देगा।

Related Articles