बीजेपी से मिलकर इतिहास के पन्नों में दर्ज हुए नेफ्यू रियो, चौथी बार बने नागालैंड के मुख्यमंत्री

0

कोहिमा: नागालैंड में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा के साथ मिलकर गठबंधन की सरकार बनाने वाली एनडीपीपी-भाजपा गठबंधन सरकार की अगुवाई करने वाले एनडीपीपी मुखिया नेफ्यू रियो ने गुरुवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण कर ली है। चौथी बार मुख्यमंत्री बनने वाले रियो ने इस बार राजभवन के बाहर शपथ ग्रहण कर इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज किया है। उनके अलावा भाजपा के वाई पट्टन ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

मिली जानकारी के अनुसार, नेफ्यू रियो का शपथ ग्रहण समारोह राजधानी कोहिमा के लोकल ग्राउंड में आयोजित किया गया था। इस शपथ ग्रहण समारोह में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और भाजपा महासचिव राम माधव ने शिरकत की। इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर और मेघालय के मुख्यमंत्री भी शामिल हो हुए।

आपको बता दें कि नेफ्यू रियो नागालैंड के पहले ऐसे शख्स हैं जिन्होंने चौथी बार राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में पद संभाला है। रियो ने इस चुनाव के ठीक पहले ही एनडीपीपी का गठन किया था और इस चुनाव में विधानसभा में भाजपा के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा था।

इन चुनाव में सत्तारूढ़ एनपीपी ने 60 में से 26 सीटें हासिल की थी और राज्य की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बनी थी लेकिन वह बहुमत का आकड़ा नहीं छू रही। उधर, इस चुनाव में भाजपा को 12 सीटें हासिल हुई हैं जबकि एनडीपीपी के खाते में 17 सीटें गई हैं। इस आधार पर इस गठबंधन को भी 29 सीटें ही मिली थी जो बहुमत से मात्र एक कम थी।

एनडीपीपी-बीजेपी गठबंधन ने जेडीयू के समर्थन से 30 सीटों का आंकड़ा पार किया और सरकार बनाने का दावा पेश किया। मुख्यमंत्री रियो को 16 मार्च तक या इससे पहले सदन में बहुमत साबित करना होगा।

एनपीपी पार्टी के निवर्तमान मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग ने 6 मार्च को राज्यपाल से मुलाकात कर इस्तीफे की पेशकश की थी जिसे स्वीकार कर लिया गया। राज्यपाल पीबी आचार्य ने अगले मुख्यमंत्री की शपथ ग्रहण तक मुख्यमंत्री पद पर बने रहने को कहा था।

loading...
शेयर करें