IPL
IPL

Lohia Institute के अनपढ़ डॉक्टरों की लापरवाही, जीवित मरीज को बताया मृत

लखनऊ: उत्तर प्रदेश ई राजधानी लखनऊ के चर्चित सरकारी अस्पताल की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आ रहा है। यहां गोमतीनगर स्थित राम मनहर लोहिया संस्थान (Lohia Institute) में रविवार को जीवित महिला मरीज को मृत घोषित करके डिस्चार्ज करने का मामला प्रकाश में आया। परिजनों का आरोप है कि जब शव लेने पहुंचे तो महिला की सांसें चल रही थीं। शक होने के बाद जांच करने पर पता चला कि उनकी सांसे चल रही  इसके बाद उसे आनन-फानन दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस घटना को लोहिया संस्थान (Lohia Institute) फर्जी बता रहा है।

पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, इंदिरानगर के रहने वाले सुनील कुमार ने बताया कि उनकी मां सुखरानी गौतम ( 54) को सांस लेने में समस्या होने पर तीन दिन पहले लोहिया संस्थान में भर्ती कराया गया। यहां इमरजेंसी में उनका इलाज चल रहा था। रविवार को उन्हें शाम पांच बजे बताया गया कि मरीज की मौत हो गई है। जब शव लेने पहुंचे तो पता चला उनकी सांसें चल रही थीं। कंपाउंडर को बुलाकर जांच कराई तो उसने भी महिला के जीवित होने की बात कही। इसके बाद मरीज को डालीगंज अस्पताल ले जाकर भर्ती कराया गया।

 

ये भी पढ़ें: जानिए क्यों 125 साल पुराने न्यू यॉर्क मेट्रो को अब वज़ूद के लिए करना पड़ रहा है संघर्ष

इन आरोपो को बताया फर्जी

उधर, लोहिया संस्थान के प्रवक्ता डॉ. श्रीकेश का कहना है कि आरोप पूरी तरह से निराधार है। प्रथम दृष्टया से केस फर्जी लग रहा है। संस्थान में डिस्चार्ज स्लिप पर कभी भी डेथ सर्टिफिकेट नहीं देते है। महिला की मौत हुई थी तो उसे डेथ सर्टिफिकेट भी दिया जाना चाहिए था नो ऐसा नही हुआ। इस संबंध में शिकायत आती है तो पड़ताल होगी कि महिला को क्यों डिस्चार्ज किया गया।

ये भी पढ़ें: यूपी के इस जिले में कर्फ्यू के दौरान Bank रहेगी बंद, डीएम ने जारी किया आदेश

निजी अस्पताल में देर रात गई जान

महिला को देर रात निजी अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया। महिला के बेटे सुनील कुमार ने बताया कि निजी अस्पताल में वे करीब 10 बजे पहुंचे। वहां पहुंचने पर डॉक्टरों ने उनकी पड़ताल की। इसके बाद करीब सवा दस बजे उनको मृत घोषित कर दिया।

 

 

Related Articles

Back to top button