नेपाली पीएम ओली ने पुराने नक्शे के साथ दी विजयदशमी की शुभकामनाएं, रॉ प्रमुख से मुलाकात के बाद बदले तेवर

बीते कुछ दिनों से भारत और नेपाल के बीच नए नक्शे को लेकर चल रहा तनाव फीका पड़ रहा है।

नई दिल्लीः बीते कुछ दिनों से भारत और नेपाल के बीच नए नक्शे को लेकर चल रहा तनाव फीका पड़ रहा है। जिसका उदाहरण हाल ही में नेपाल के प्रधानमंत्री द्वारा जारी विजयदशमी के संदेश में देखने को मिला है।

दरअसल नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी.शर्मा ओली ने नेपाली नागरिकों को विजदशमी की शुभकामनाएं दी है। इन शुभतामनाओं में नेपाल के पुराने नक्शे का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा नेपाली सीमा का हिस्सा नहीं है।

ऐसे में के.पी.शर्मा के इस संदेश को कई जानकार भारत और नेपाल के रिश्तों में सकारात्मक बदलाव के रूप में देख रहे हैं। वहीं नेपाल के बरताव में बदलाव का कारण नेपाली पीएम की रॉ प्रमुख सामंत कुमार गोयल से मुलाकात को माना जा रहा है।

आपको बता दें कि, बुधवार की शाम को नेपाल के प्रधानमंत्री ओली और रॉ प्रमुख के बीच में मुलाकात हुई थी। जिसके बाद पीएम ओली नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (NCP) की रडार पर आ गए हैं। NCP ने पीएम ओली पर जमकर निशाना साधते हुए इसे गैर-कूटनीतिक मुलाकात करार दिया है।

एनसीपी के विदेश मामलों के प्रकोष्ठ के उपप्रमुख विष्णु रिजाल ने कहा, कूटनीति नेताओं के द्वारा नहीं बल्कि राजनयिकों द्वारा संभाली जानी चाहिए। रॉ प्रमुख की यात्रा पर वर्तमान संशय कूटनीति राजनेताओं द्वारा संभाले जाने का परिणाम है।

Related Articles

Back to top button