इस मामले में फंसे मध्य प्रदेश के नए CM कमलनाथ, जान के रह जाएँगे दंग, दर्ज हुआ केस

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बने कमलनाथ ने शपथ ग्रहण के बाद एक ऐसा बयान दे दिया जिसके बाद अब उनके लिए ही मुसीबत बनती जा रही है और उस बयान को लेकर अब उनके खिलाफ मामला दर्ज भी हो गया है. कमलनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद कर्ज माफी का ऐलान किया और उसके बाद उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 70 फीसद लोग बिहार और यूपी के प्रदेश के लोगों की नौकरियां ले जाते हैं इसके बाद उनके इस बयान को लेकर काफी आलोचना हो रही थी |

वही भारतीय जनता पार्टी 20 बहन को लेकर उन पर हमला बोल रही थी. अब उनके इस बयान को लेकर बिहार में उनके खिलाफ मामला दर्ज कर दिया गया है और इस मामले की को लेकर कार्यवाही जल्द ही शुरू हो सकती है हाल ही में बने मुख्यमंत्री के ऊपरी पहला मामला दर्ज हुआ है और इसके दर्ज होने के बाद हो सकता है कि कमलनाथ की मुश्किलें बढ़ जाए. परिवाद दायर होते ही सीजेएम ने संज्ञान लेते हुए सुनवाई के लिए दंडाधिकारी मानस कुमार की बेंच में केस को ट्रांसफर कर दिया है.

मामले की अगली सुनवाई अगले साल 3 फरवरी को होगी. हालांकि, आगे ही पता चल पाएगा कि इस केस में क्या कार्रवाई होती है. लेकिन, इस केस ने कमलनाथ की मुसीबत बढ़ा दी है. वहीं आपको बता दें कि इस मामले की दर्ज होने के बाद कमलनाथ ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्होंने बहुत साधारण सी बात कही थी यह बात सभी जानते हैं. उन्होंने कहा कि लोकल लोगों को पेंशन मिलनी चाहिए. यानी इस तरीके से कमलनाथ अभी भी अपने बयान पर पड़े हुए हैं और उन्होंने अपने बयान के लिए कोई माफी नहीं मांगी है.

Related Articles