नई राहें और नई मंजिलें योजना के तहत विकसित होगा पौंग बांध ( Pong Dam ) 

हिमाचल प्रदेश ( Himachal Pradesh ) के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ( Chief Minister Jairam Thakur ) ने कहा है कि पौंग बांध ( Pong Dam ) को नई राहें-नई मंजिलें योजना के अन्तर्गत विकसित किया जाएगा।

शिमला: हिमाचल प्रदेश ( Himachal Pradesh ) के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ( Chief Minister Jairam Thakur ) ने कहा है कि पौंग बांध ( Pong Dam ) को नई राहें-नई मंजिलें योजना के अन्तर्गत विकसित किया जाएगा ताकि इसे पर्यटन के लिये विकास हो सके। उन्होंने कहा कि इस परियाेजना पर 7.96 करोड़ रुपये व्यय किए जा रहे हैं ताकि पौंग बांध ( Pong Dam ) को प्रदेश के प्रमुख पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया जा सके।

जयराम ठाकुर ( Jairam Thakur ) की अध्यक्षता में सोमवार को पौंग क्षेत्र विकास बोर्ड की पहली बैठक हुई। उन्होंने एशियाई विकास बैंक द्वारा वित्तपोषित 8.33 करोड़ की परियोजना के पहले ट्रैंच के कार्यान्वयन में बरती जा रही ढील पर असन्तोष व्यक्त करते हुए इस मामले में जांच करने और जांच रिपोर्ट एक महीने के अन्दर प्रस्तुत करने का आदेश दिया, ताकि वास्तविकता सामने आ सके।

उत्कृष्ट संस्थान स्थापित करने की संभावनाएं

मुख्यमंत्री ( Chief Minister ) ने कहा कि पौंग बांध ( Pong Dam ) जलाशय में खेल क्रीड़ाओं के लिए भारतीय नौ सेना ( Indian Navy ) अथवा तटरक्षक सेना के सहयोग से एक उत्कृष्ट संस्थान स्थापित करने की संभावनाएं तलाशी जाएं, ताकि अधिक से अधिक पर्यटकों को यहां आने के लिए आकर्षित किया जा सके।

ये भी पढ़ें : बसंत पंचमी ( Basant Panchami ) और माघ मेला के लिये प्रोटोकॅाल तय

प्रभावी कदम उठाने की आवश्यकता है

उन्होंने कहा कि क्षेत्र में स्वीकृत गतिविधियां जानने के लिए कारगर कदम उठाए जाने चाहिए। इसके अलावा, पर्यटन परियोजनाओं के निष्पादन में निजी निवेश आकर्षित करने की दिशा में भी प्रभावी कदम उठाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि पौंग बांध विकास बोर्ड ( Pong Dam Development Board ) को सुदृढ़ बनाने के लिए समुचित कदम उठाए जाएंगे। पौंग बांध क्षेत्र के किनारे बेहतर सड़क सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी ताकि पर्यटक यहां आने के इच्छुक हों।

ये भी पढ़ें : जल जीवन मिशन मामले में High Court ने भेजा केन्द्र व राज्य सरकार को नोटिस

पयर्टन की दृष्टि से विकसित किया जाना चाहिए

उनके अनुसार पौंग बांध में रामसर गिरि द्वीप को पयर्टन की दृष्टि से विकसित किया जाना चाहिए, जहां हर वर्ष हजारों की संख्या में पर्यटक नौकाओं के माध्यम से पहुंचते हैं। विभिन्न प्रमुख स्थलों पर फ्लोटिंग जैट्टिज की सुविधा प्रदान की जानी चाहिए ताकि लोग नौकायन का आनन्द उठा सकें। उन्होंने कहा कि पौंग बांध में पैराग्लाइडिंग, पैरा सैलिंग, वाटर स्कूटर, केयाकिंग, स्पीड बोट, क्रूज बोट, वाटर जोर्बिंग बाॅल्स, हाउस बोट, शिकारा, फ्लोटिंग जैट्टी और फ्लोटिंग रेस्टोरेंट जैसी खेल गतिविधियां आरम्भ करने के लिए भाखड़ा ब्यास प्रबन्धन बोर्ड से मंजूरी ली जानी चाहिए।

Related Articles

Back to top button