न्यूयॉर्क की बैंकरप्सी कोर्ट ने नीरव मोदी की Allegations खारिज करने वाली याचिका ठुकराई

नई दिल्ली : न्यूयॉर्क की बैंकरप्सी कोर्ट ने हीरा कारोबारी नीरव मोदी की वह याचिका मानने से इनकार कर दिया जिसमें वह अपने खिलाफ लगे फर्जीवाड़े के Allegations को खारिज करने की मांग कर रहा था। इस मसले में कोर्ट ने उन अमेरिकी कॉरपोरेशंस का एक नया ट्रस्टी भी नियु्क्त किया है जिसपर पहले नीरव मोदी का अधिकार था।

फर्जीवाड़े के Allegations को ख़ारिज कर कोर्ट ने नया ट्रस्टी नियुक्त किया

इस कड़ी में न्यूयॉर्क के सदर्न डिस्ट्रिक के बैंकरप्सी कोर्ट के जज सीन एच लेन के इस फैसले को जानकार नीरव मोदी के लिए बहुत बड़ा झटका मान रहे हैं।इस कड़ी में आपकी जानकरी के लिए बता दें इस मसले में कोर्ट ने साठ पेज का एक आदेश जारी किया है, जिसमे कहा गया है की नीरव मोदी ने अपनी कंपनी की सेल्स गलत दिखाकर शेयर का प्राइस और वैल्यूएशन बढ़ाया है ताकि वह ज्यादा से ज्यादा फायदा उठा सके। नीरव मोदी ने इस रणनीति से पंजाब नेशनल बैंक को एक अरब डॉलर का चूना लगा दिया था।

इस पूरे घोटाले की जड़ में लेटर ऑफ अंडरटेकिंग है।आपको बता यह एक तरह की गारंटी होती है, जिसके आधार पर दूसरे बैंक अकाउंट होल्‍डर को पैसा देते हैं। ऐसे में अगर खाताधारक डिफॉल्ट करता है तो लेटर ऑफ अंडरटेकिंग मुहैया कराने वाले बैंक की जिम्मेदारी होती है कि वह संबंधित बैंक को बकाए का भुगतान करे।

एज भी पढ़े : मुंबई के CST स्टेशन पर शुरू हुआ मुंबई का पहला on wheel restaurant

Related Articles