यूपी में 3 नवम्बर तक कार्यभार ग्रहण करेंगे नव-नियुक्त 31,277 बेसिक शिक्षक

किसी भी स्थिति में नवचयनित अध्यापकों की तैनाती ऐसे विद्यालयों में नहीं की जायेगी, जहां पूर्व से ही नियमावली 2011 के मानकों के अनुरूप अध्यापक तैनात हों।

लखनऊ: यूपी सरकार परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में चयनित 31,277 सहायक अध्यापकों को 3 नवम्बर तक कार्यभार ग्रहण कराएगी। बुधवार को मिली जानकारी के अनुसार नव-नियुक्त अध्यापकों की 26 से 28 अक्टूबर तक जिलों में काउंसलिंग होगी, 29 से 30 अक्टूबर तक विद्यालय आवंटन की कार्रवाई की जायेगी जबकि 31 अक्टूबर से तीन नवम्बर विद्यालय में कार्यभार ग्रहण करना होगा।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा द्वारा एक पत्र के माध्यम से सभी जिलाधिकारियों, महानिदेशक स्कूल शिक्षा, उत्तर प्रदेश तथा महानिदेशक बेसिक शिक्षा उत्तर प्रदेश को इस आशय के निर्देश दिये गये हैं। पत्र में कहा गया है कि इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखा जाय कि किसी भी विद्यालय में निःशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार नियमावली, 2011 में विहित छात्र-अध्यापक अनुपात के अनुसार ही अध्यापकों की तैनाती की जाय। किसी भी स्थिति में नवचयनित अध्यापकों की तैनाती ऐसे विद्यालयों में नहीं की जायेगी, जहां पूर्व से ही नियमावली 2011 के मानकों के अनुरूप अध्यापक तैनात हों।

नव-नियुक्त 31,277 सहायक शिक्षकों की तैनाती हो समय-सारिणी के अनुसार

यूपी सरकार ने परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में 69,000 पदों के सापेक्ष चयनित 31,277  नव-नियुक्त सहायक अध्यापकों की तैनाती समयबद्ध रूप से एक समय-सारिणी के अनुसार किये जाने के निर्देश दिये हैं।

पहचान पत्र के साथ स्वयं उपस्थित होना अनिवार्य

पत्र में उल्लेख किया गया है कि नवचयनित अध्यापकों की तैनाती अध्यापक तैनाती नियमावली 2008 (अद्यतन संशोधित-2010) एवं तद्विषयक निर्गत शासनादेशों के अनुसार परिषदीय विद्यालयों में की जाए। समस्त कार्यवाही पूर्ण पारदर्शिता के साथ जिलाधिकारी के निर्देशन में तैनाती नियमावली 2008 (यथा संशोधित 2010) में प्राविधानित तैनाती समिति द्वारा सम्पन्न करायी जाए। विद्यालय आवंटन हेतु जनपद स्तर पर आयोजित काउंसलिंग में नव चयनित अध्यापक/ अध्यापिका का व्यक्तिगत रूप से वैधानिक पहचान पत्र के साथ स्वयं उपस्थित होना अनिवार्य है। काउंसलिंग स्थल पर भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 के सम्बन्ध में निर्गत गाइड लाइन्स का भी पूर्ण अनुपालन सुनिश्चित किया जाय और इस संबंध में समस्त आवश्यक तैयारियां पूर्व से ही करा ली जायें।

भेजे पत्र में यह भी उल्लिखित है कि तैनाती से सम्बन्धित समस्त कार्यवाही उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन विशेष अनुज्ञा याचिका संख्या-11198/2020 रामशरण मौर्या व अन्य बनाम राज्य सरकार व अन्य एवं 6687/2020 सूबेदार सिंह व अन्य बनाम व राज्य सरकार व अन्य में पारित होने वाले अंतिम निर्णय के अधीन होगी।

ये भी पढ़ें : हाईकोर्ट ने डेंटल सर्जन के नियुक्ति के मामले में UPPSC से मांगी जानकारी

Related Articles