पटाखे को लेकर दिल्ली के बाद यूपी में भी फूटा NGT का बम

दिल्ली के बाद यूपी में भी पटाखे बैन, NGT ने लगाया प्रतिबंध

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने आतिशबाजी की बिक्री और प्रयोग पर एनजीटी न्यायालय द्वारा दिये गये आदेश का तत्काल पालन करने एवं दीपावली को मनाने के लिए ‘डिजिटल/लेजर’ आदि की नई तकनीक का प्रयोग किये जाने को बढ़ावा दिये जाने के निर्देश जारी किये गये हैं।

अधीक्षकों को आदेश जारी

राज्य के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने आज इस संबंध में प्रदेश के सभी मण्डलायुक्तों, पुलिस आयुक्त लखनऊ एवं गौतमबुद्धनगर, पुलिस महानिरीक्षक/पुलिस उप महानिरीक्षक परिक्षेत्र, जिला मजिस्ट्रेट, पुलिस उप महानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक तथा पुलिस अधीक्षकों को आवश्यक निर्देश जारी करते हुये एनजीटी न्यायालय, नई दिल्ली के आदेश का अनुपालन किये जाने के निर्देश दिये हैं।

एयर क्वालिटी इन्डेक्स

मुख्य सचिव ने बताया कि शासनादेश के अनुसार न्यायालय द्वारा प्रदेश के जिन जिलो के एयर क्वालिटी इन्डेक्स (एक्यूआई) का उल्लेख किया गया है, उनमें क्रमशः मुजफ्फरनगर (खराब), आगरा, वाराणसी, मेरठ व हापुड़ (बहुत खराब) तथा गाजियाबाद, कानपुर, लखनऊ, मुरादाबाद, नोएडा व ग्रेटर नोएडा, बागपत तथा बुलन्दशहर को (गंभीर) का नाम है। उल्लिखित स्थानों पर एनजीटी के आदेश का पालन करते हुये इन जिलो में दीपावली को मनाने के लिए डिजिटल/लेजर आदि की नई तकनीक का प्रयोग करने के निर्देश दिये गये है।

ग्रीन क्रेकर और डिजिटल/लेजर

अवस्थी ने कहा है कि शासन द्वारा जारी निदेर्शों में यह भी कहा गया है कि जिन जिलो में एक्यूआई माडरेट या उससे बेहतर है, केवल ग्रीन पटाखे (क्रेकर्स) बेचे जायें। एनजीटी न्यायालय के वर्तमान एवं पूर्व के निर्देशों का पालन करते हुये इनको बेंचा/प्रयोग किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इन जिलो में दीपावली को मनाने के लिए ग्रीन क्रेकर व डिजिटल/लेजर आदि की नई तकनीकी के प्रयोग को आम जन में प्रोत्साहित किया जाय।

यह भी पढ़े:बिहार में EVM पर लग रहे आरोपों के बीच चुनाव आयोग ने कहा, ‘ईवीएम सुरक्षित’

यह भी पढ़े:IPL 2020: फाइनल मुकाबले में ऐसी हो सकती है दिल्ली और मुंबई की प्लेइंग इलेवन

Related Articles

Back to top button