कृषि कानून के विरोध प्रदर्शन से NHAI के सामने बड़ी चुनौती

कृषि कानून के लंबर विरोध प्रदर्शन के बाद अब नेशनल हाईवे ऑथोरिटी ऑफ इंडिया ( NHAI ) के एक अधिकारी का बयान आया है।

नई दिल्ली: कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के गाजीपुर बॉर्डर के पास राष्ट्रीय राजमार्ग-24 पर विरोध प्रदर्शन के 100 दिन पूरे होने वाले हैं, और इस विरोध प्रदर्शन से सड़के जाम होने के कारण कई बड़े काम में अटकले बनी हुई है। जिसके कारण नेशनल हाईवे ऑथोरिटी ऑफ इंडिया ( NHAI ) के लिए यह आंदोलन अब परेशानी का सबब बनता जा रहा है।

कृषि कानून के लम्बे विरोध प्रदर्शन के बाद अब नेशनल हाईवे ऑथोरिटी ऑफ इंडिया ( NHAI ) के एक अधिकारी का बयान आया है, जिसमे उन्होंने कहा है कि प्रदर्शन के कारण कई कामो में रुकावट आ रही है कई बड़े प्रोजेक्ट रुके हुए है। हाइवे के रखरखाव में भी दिक्कते आ रही है। भारी भीड़ होने के कारण वहां कर्मचारी अच्छे से साफ़ सफाई करने में असमर्थ है।

किसान आंदोलन से सब्जियों के रेट चढ़ने के आसार, आलू-प्‍याज ने मचाया बवाल |  Zee Business Hindi

दरअसल, किसानों ने नेशनल हाईवे पर अपने तंबू लगा रखे हैं, ऐसे में यहां कूड़ा-कचरा भी जमा होता है। इस वजह से हाईवे पर काफी गंदगी भी रहती है, हालांकि किसान सफाई करते हैं, लेकिन सड़कों पर लंगर बनने की वजह से तेल जैसा पदार्थ सड़कों पर चिपका रहता है। उन्होंने कहा, “किसान आंदोलन की वजह से हाईवे के प्रोजेक्ट्स भी रुके हुए हैं, वहीं कुछ साइन बोर्डस और कैमरे लगाने बाकी हैं, वहीं कुछ न्यू एडवांस टेक्नोलॉजी लगानी थी, ये सब काम रुके पड़े हैं। और जब यह प्रदर्शन खत्म होगा तो एकदम से यह सब कुछ एक साथ करना काफी चुनौती भरा काम होगा।

यह भी पढ़े: SBI के ग्राहक ध्यान दें, ऐसे मैसेज से रहे सावधान, वरना अकाउंट हो जाएगा खाली

Related Articles