विधानसभा में विस्फोटक मामला : जांच में जुटी NIA और यूपी ATS

0

लखनऊयूपी विधानसभा में विस्फोटक मिलने के बाद हडकंप मचा हुआ है। इतनी सुरक्षा के बाद विधानसभा के अन्दर विस्फोटक पहुंचना अपने आप में एक सवाल है। अब इसकी जाँच शुरू हो चुकी है। इसका पता लगाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (NIA) और एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (ATS) साझा अभियान शुरू किया है। रात भर विधानसभा के चप्पे चप्पे की जांच की गई।

विधानसभा

विधानसभा के सीसीटीवी फूटेज की हो रही जांच

विस्फोटक की रिपोर्ट मिलने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के की बात कही थी। एक कर्मचारियों अधिकारियों से पोइओछ्तछ की जा रही है वहीं सीसीटीवी फूटेज की भी जांच कर रही हैं। करीब दो घंटे तक यूपी एटीएस और एनआईए की टीम विधानसभा के अंदर रही।

बुधवार को मिला विस्फोटक

गौरतलब है कि बुधवार को यूपी विधानसभा में समाजवादी पार्टी के एक विधायक की सीट से मिला सफ़ेद पाउडर मिला था। जांच में खुलासा हुआ है कि वो पाउडर खतरनाक विस्फोटक था जिसका इस्तेमाल आतंकवादी करते हैं। इसके बाद से हडकंप मचा हुआ है। सीएम योगी ने विधानसभा सदन को इस बारे में जानकारी दी है।

सीएम योगी ने सदम को बताया कि ये बड़ी आतंकी साजिश है। इसकी एनआईए से जांच करानी चाहिए। फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट में कहा गया है कि विधानसभा से मिला सफ़ेद पाउडर प्लास्टिक पीईटीएन है। इस रिपोर्ट के आने के बाद सुरक्षा का जायजा लेने और चर्चा करने के लिए बैठक बुलाई थी।

विधानमंडल में पाया गया विस्फोटक पीईटीएन है। एक्सपर्ट का कहना है कि डेटोनेटर होने के बाद ही ये विस्फोटक बम का रूप ले लेता है। इस खुलासे के बाद सुबह साढ़े दस बजे सीएम आदित्यनाथ योगी ने सुरक्षा को लेकर बैठक बुलाई है। इतनी सुरक्षा के बाद विधानसभा में विस्फोटक मिलना कई सवाल खड़े करता है।

क्या है PETN 

आपको बता दें कि अभी यूपी विधानसभा में बजट सत्र चल रहा है। संदिग्ध पाउडर अपोजिशन लीडर रामगोव‍िंद चौधरी की सीट के पास म‍िला। बताया जा रहा है कि दुनिया के सबसे खतरनाक विस्फोटकों में से एक PETN विस्फोटक काफी जानलेवा होता है। दुनिया के खतरनाक आतंकी संगठन इसका इस्तेमाल करते हैं। इसकी मुट्ठीभर मात्रा एक बिल्डिंग को धराशायी करने के लिए काफी होता है। ये विस्फोटक रंगहीन, गंधहीन होता है। इसे मेटल डिटेक्टर भी नहीं पकड़ सकता लेकिन डॉग स्कवॉयड ने इसे ढूंढ निकाला।

आतंकवाद से जुड़े होने की जांच

NIA और ATS  इस घटना की आतंकी संगठन से भी जोड़कर भी देख रही है। तमाम पहलुओं से की जाँच की जा रही है ।वहीँ सीएम योगी ने देर रात मीटिंग की इसमें गृह सचिव, डीजीपी, एनआईए , एटीएस और इंटेलिजेंस पुलिस के बड़े अफसर शामिल हुए। इस मीटिंग में विधानसभा की सुरक्षा को और पुख्ता करने और भी तमाम पहलुओं पर चर्चा हुई।

loading...
शेयर करें