रात्रि चौपाल में विकास कार्यों पर उठे सवाल, सच्चाई सुन शर्म से पानी-पानी हो गए योगी…

उत्तर प्रदेश। ग्राम स्वराज अभियान के तहत प्रतापगढ़ जिले की पट्टी विधानसभा के कंधई मधुपुर गांव में सोमवार को मुख्यमंत्री की चौपाल आयोजित हुई। चौपाल में लगभग दो घंटे तक खूब जमकर नारेबाजी हुई। कार्यक्रम के बाद जब मुख्यमंत्री ने माइक संभाला और विकास कार्यों का जायजा भी लिया। सीएम ने जब विकास कार्यों को लेकर सवाल किया तो बौखलाई जनता ने अधिकारियों को चोर कहना शुरु कर दिया।

हालातों को देखते हुए मुख्यमंत्री ने मंच पर ही जिलाधिकारी, सीडीओ और डीपीआरओ को डांटना शुरु कर दिया। साथ ही सवाल भी किए कि आखिर अभी तक गांव में शौचालय का निर्माण क्यों नहीं हुआ है। चेतावनी देते हुए कहा कि इस मामले में जवाबदेही तय होगी। सीएम के तेवर देख अफसरों के पसीने छूट गए। इस मामले को लेकर जब उन्होंने अधिकारियों को स्टेज पर बुलाया तब वहां मौजूद डीपाआरओ ने बताया कि गांव में पांच सौ शौचालय बने हैं।

साथ ही वहां की जनता ने अधिकारियों पर यह भी आरोप लगाया कि हर काम में वह लोग जनता से घूस भी लेते हैं। हर योजना में घूस लेने के बाद ही लाभ दिया जाता है। लोगों ने आवास, शौचालय और हैंडपंप के लिए पैसे मांगने का आरोप लगाते रहे। राशनकार्ड के बारे में पूछने पर जिला पूर्ति अधिकारी गोलमाल जवाब देने लगे। राशनकार्डों के सत्यापन के बारे में भी वह जवाब नहीं दे सके। इस पर मुख्यमंत्री ने उन्हें फटकार लगाते हुए कार्रवाई की चेतावनी दी है।

Related Articles