नाइट ड्यूटी नहीं कर सकेंगी महिलायें

utt-ladies-2

काशीपुर। उत्तराखंड की फैक्ट्रियों में अब महिलायें नाइट शिफ्ट नहीं कर सकेंगी। प्रदेश सरकार द्वारा औद्योगिक इकाईयों में प्रबंधन को महिलाओं को नाइट ड्यूटी में काम करने की तीन वर्ष की छूट रविवार को खत्म हो चुकी है। प्रदेश सरकार द्वारा अभी तक इस छूट को बढ़ाया नहीं गया है। सरकार की ओर से उद्योगों में महिलाओं को नाइट शिफ्ट में काम की अनुमति न मिलने से बड़ी संख्या में महिलायें प्रभावित हो रही हैं। मौजूदा समय में महिलायें सभी शिफ्टों में काम कर रही थीं। नाइट शिफ्ट खत्म होने से औद्योगिक इकाईयां महिलाओं को नौकरी देने से पीछे हट सकती हैं या उन्हें नौकरी से निकाल भी सकती हैं।

utt-ladies-3

बता दें कि प्रदेश सरकार ने पूर्व में महिलाओं के साथ हो रही अप्रिय घटनाओं को देखते हुए औद्योगिक इकाईयों में रात की पाली में महिलाओं के काम करने पर प्रतिबंध लगाया था। तीन साल पहले 28 दिसंबर 2012 को सरकार ने कुछ शर्तों के साथ इस छूट को तीन साल के लिये जारी किया था। तीन साल की ये अवधि 27 दिसंबर 2015 को खत्म हो चुकी है। हालांकि इन तीन वर्षों में महिलाओं के साथ किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना नहीं हुई।

ये भी पढ़ें – प्राइवेट सेक्टर में 26 सप्ताह का मिलेगा मातृत्व अवकाश!

utt-ladies-4

छूट को जारी रखने के लिये कुमाऊं-गढ़वाल चेंबर ऑफ कॉमर्स ने बीती 3 दिसंबर को प्रदेश सरकार को पत्र भेजकर मांग भी की, लेकिन सरकार ने इस मामले में अभी तक कोई भी फैसला नहीं लिया है। वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि छूट की अवधि को फिलहाल बढ़या नहीं गया है इसलिये इकाईयां महिलाओं से नाइट ड्यूटी में काम नहीं करा सकतीं।

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button