निर्भया के दोषियों की फांसी की तारीख तय, कल हो सकती है फांसी

नई दिल्ली:दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की फांसी का रास्ता साफ कर दिया है। अदालत ने सोमवार को चारों दोषियों की फांसी पर रोक लगाने से इनकार कर दिया।अदालत को दोषियों के वकील ने बताया कि अक्षय और पवन की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित है तो अदालत ने कहा कि उन्हें ये पता है। इसके साथ ही और कोई याचिका लंबित नहीं है।

अदालत ने दोषियों की याचिका खारिज करते हुए तीन मार्च की फांसी की तारीख को बरकरार रखा है। हालांकि दोषियों के पास कल की फांसी से बचने का एक उपाय अब भी बचा है। जिससे फांसी 14 दिन के लिए फिर टल सकती है। चारों दोषियों में से पवन गुप्ता ऐसा दोषी है। जिसके पास दया याचिका का विकल्प बचा हुआ है।

जानकारी मिली है कि उसने सोमवार दिन में अपनी दया याचिका राष्ट्रपति के पास भेजी है। अब अगर राष्ट्रपति पवन की दया याचिका खारिज कर देते हैं तो नियम के अनुसार दया याचिका खारिज होने के बाद भी मौत की सजा पाए दोषी को 14 दिन का समय मिलता है।

पवन की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित लेकिन फांसी पर रोक से इनकार किया है। अब यह पूरी तरह से अदालत के फैसले पर निर्भर करेगा कि वो पवन को दया याचिका ठुकराए जाने के बाद जो 14 दिन का समय दिया जाता है वो देगी या नहीं।

अब अगर अदालत समय देती है तो 14 दिन के लिए फांसी फिर टल जाएगी और अगर नहीं देती है तो कल ही चारों दोषी फांसी पर लटकाए जाएंगे। वहीं दोषी अक्षय ने भी दोबारा दया याचिका राष्ट्रपति के पास भेजी है। निर्भया के गुनहगारों को फांसी देने के लिए पवन जल्लाद रविवार शाम तिहाड़ जेल पहुंच गया।

तिहाड़ पहुंचने के बाद उसने जेल नंबर तीन स्थित फांसी घर का निरीक्षण किया। सोमवार को पवन जल्लाद डमी से फांसी का ट्रायल करेगा ताकि गुनहगारों को फांसी देने के दौरान वह मानसिक तौर पर तैयार रहे। जेल के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि तिहाड़ जेल में फांसी को लेकर सभी तैयारी पूरी कर ली गई है।

Related Articles