निर्मला सीमारमण ने पाकिस्तान को दी चेतावनी, कहा- अगर हमें उकसाया तो…

नई दिल्ली: पाकिस्तान द्वारा सीमा पर लगातार किये जा रहे सीज फायर के उल्लंघन को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए कहा कि  गृह मंत्रालय द्वारा जम्मू-कश्मीर में रमजान के महीने में सीजफायर लागू करने का फैसला सेना से बातचीत करने के बाद ही लिया गया था। उन्होंने कहा कि इसका मतलब यह नहीं कि सेना हाथ पर हाथ धरे बैठा रहेगा। सेना के पास जवाबी कार्रवाई करने का विकल्प है। उन्होंने कहा कि अगर हमें उकसाया तो हम जरूर जवाब देंगे।

निर्मला सीतारमण ने इस प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन मोदी सरकार के चार साल पूरा होने के अवसर पर किया था। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने पाकिस्तानी सेना द्वारा सीमा पर की जा रही नापाक हरकत का भी जिक्र किया। निर्मला ने कहा कि विदेश मंत्रालय पहले ही कह चुका है कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं हो सकता है। ये ही हमारी सरकार का रुख है।

इस दौरान निर्मला सीतारमण ने सेना के तीनों अंगों को मिलने वाले फंड में आ रही कमी का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सेना के पास फंड की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कई आंकड़े भी जारी किए। हमने वाइस चीफ को फंड खर्च करने और खरीदारी करने की पूरी पावर दी है।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि रक्षा मंत्रालय का काम सीज़फायर का मूल्यांकन करना नहीं है, हमारा काम बॉर्डर की रक्षा करना है, जो हम कर रहे हैं। निर्मला ने कहा कि जम हम आए थे तब सेना के पास गोलाबारूद की कमी थी, लेकिन आज देश में किसी तरह की गोलाबारूद की कमी नहीं है। अब सेना को ही खरीदने की शक्ति दी गई है। विपक्ष द्वारा राफेल डील पर लगाए जा रहे आरोपों पर उन्होंने कहा कि विपक्ष के सभी आरोप निराधार हैं, इसमें एक पैसे का भी घोटाला नहीं हुआ है। ये दो सरकारों के बीच का एग्रीमेंट है।

Related Articles