ईंधन की कीमतों को लेकर निर्मला सीतारमण ने दिया बड़ा बयान

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने सरकार के द्वारा बढ़ाए गए ईंधन की कीमत को लेकर बड़ा बयान दिया है। वित्त मंत्री ने कहा कि ईंधन की कीमतों को कम करना किसी भी सरकार के लिए किसी धर्म संकट से कम नहीं हैं, राज्य और केंद्र दोनों पेट्रोलियम उत्पादों (Petroleum products) पर राजस्व कमाते हैं और दोनों पक्षों को इस पर चर्चा करनी चाहिए।

सीतारमण ने भारतीय महिला प्रेस कोर’ कार्यक्रम के दौरान कहा कि इस मसले पर राज्यों और केंद्र दोनों को चर्चा करनी चाहिए क्योंकि सिर्फ केंद्र ही नहीं है पेट्रोलियम उत्पादों पर टैक्स लेता है, राज्यों की भी इसमें बराबर भागीदारी है।  उन्होंने कहा कि जब केंद्र राजस्व प्राप्त करता है, तो इसका 41 प्रतिशत राज्य में चला जाता है। यह राज्य है स्तरित मुद्दा और इसलिए मैं राज्य और केंद्र दोनों को इस पर चर्चा करनी चाहिए। वित्त मंत्री ने कहा कि अभी तक, उनकी किसी भी राज्य सरकार के साथ कोई चर्चा नहीं हुई है।

20-25 वर्षों में युवाओं को रोजगार देंगी Nirmala Sitharaman

केंद्रीय बजट 2021 के बारे में बात करते हुए, सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने कहा कि बजट में सरकार ने यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया कि योजनाओं का वितरण किस प्रकार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही हमने यह भी सुनिश्चित किया कि हम इस अवसर का उपयोग करें कि महामारी  के बाद के सुधारों को जारी रखें।

इसे भी पढ़े: प्रख्यात शिया धर्मगुरु ने Covid-19 Vaccine को लेकर दिया बड़ा बयान

उन्होंने कहा कि सरकार इस बजट में भारतीय युवाओं को लाभान्वित करने के लिए अगले 20-25 वर्षों के लिए एक विस्तृत योजना लेकर आई है। उन्होंने कहा कि अगले 25 वर्षों के लिए, भारत में युवाओं की प्रतिभा का नीति-चालित परिदृश्य होना ज़रूरी है। बजट में भारत को विनिर्माण के हब के रूप में देखने से उद्यमियों, व्यवसायों बढ़ावा देना जरुरी हैं।

Related Articles