राम जन्मभूमि के पक्षकार महंत भास्कर दास का निधन

0

अयोध्या। राम जन्मभूमि मामले में पक्षकार और निर्मोही अखाड़े के महंत भास्कर दास का शनिवार की सुबह निधन हो गया। वह 90 साल के थे। फैजाबाद के हर्षण हृदय संस्थान में सुबह साढ़े 3 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। वो चार दिन से अस्पताल में भर्ती थे।

जानकारी के मुताबिक, वो कई दिनों से बीमार चल रहे थे। उन्हें साँस लेने में समस्या हो रही थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉ. अरुण जायसवाल की देखरेख में भास्कर दास का इलाज चल रहा था। अरुण जायसवाल ही भास्कर दास के उत्तराधिकारी हैं।

भास्कर दास का जन्म साल 1929 में गोरखपुर के रानीडीह में हुआ था। साल 1946 में वह अयोध्या आ गए। साल 1959 में अयोध्या राम जन्म भूमि के स्वामित्व का दावा दायर किया था। वह साल 1966 तक राम चबूतरे के पुजारी रहे। इसके बाद वह बगल के मंदिर में रहे। साल 1986 में फैजाबाद नाका में हनुमान गढ़ी मंदिर के महंत बने।

इसके साथ ही मुस्लिम पक्षकार हाशिम अंसारी से भी संबंध काफी मधुर थे। दोनों एक दूसरे के साथ आपस में विचार विमर्श भी किया करते थे। आपको बता दें कि मोहम्मद हाशिम अंसारी का भी निधन हृदय संबंधी बीमारियों के चलते साल 2016 में हो गया था।

loading...
शेयर करें