महागठबंधन को झटका, निषाद पार्टी के प्रवीण निषाद भाजपा में हुए शामिल

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव से पहले नेताओं के दल-बदल का खेल जारी है और इसी कड़ी में लोकसभा उपचुनाव में भाजपा को हराने वाली निषाद पार्टी के नेता प्रवीण निषाद भाजपा में ही शामिल हो गए हैं। उन्होंने गुरुवार को केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

निषाद के भाजपा में शामिल होने को राज्य में महागठबंधन के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। इससे पहले खबर आ रही थी कि निषाद पार्टी की ही भाजपा में विलय होगा लेकिन अब यह पार्टी भाजपा को समर्थन देगी। प्रवीण निषाद, निषाद पार्टी के संस्थापक संजय निषाद के बेटे हैं।

माना जा रहा है कि उन्हें भाजपा गोरखपुर सीट से मैदान में उतार सकती है।

आप को बता दे की इससे पहले उत्तर प्रदेश में सहयोगियों की फेअरिस्त को बढ़ाने में लगे महागठबंधन को उस वक्त तगड़ा झटका लगा जब महागठबंधन में शामिल होने के महज तीन दिन बाद निषाद पार्टी ने उससे नाता तोड़ते हुए अपनी अलग राह चुन ली। महागठबंधन से अलग होते हुए निषाद पार्टी के नेता संजय निषाद ने आरोप लगाया कि सपा नेता अखिलेश यादव मायावती के दबाव में काम कर रहे हैं। इसलिए महागठबंधन में बने रहना संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव ने उनसे महाराजगंज और गोरखपुर सीटें देने का वादा किया था, लेकिन उन्होंने हमारे साथ वादाखिलाफी की। महागठबंधन में शामिल होने के बाद अखिलेश यादव ने मुझे एक सीट ऑफर की और वो भी सपा के चिन्ह पर लड़ने की बात कही। यह फैसला मुझे कतई मंजूर नहीं था मैं अपनी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर लड़ना चाहता था, इसलिए मैने महागठबंधन को अलविदा कहने का मन बना लिया। संजय निषाद ने मायावती और अखिलेश यादव दोनों पर ठगने का आरोप लगाया।

Related Articles