नीतीश कुमार का ऐलान, अनाथ बच्चों को हर महीने मिलेगा 1500 रुपए

बिहार में कोरोना वायरस महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हर महीने 1500 रुपए देने का ऐलान किया है

पटना: बिहार (Bihar) में कोरोना वायरस महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने हर महीने 1500 रुपए देने का ऐलान किया है। कोरोना की दूसरी लहर में नए स्ट्रेन के कारण बहुत से बच्चें अनाथ हुए हैं। किसी परिवार में पिता जी नहीं तो किसी परिवार में मां का प्यार खत्म हो गया है। कुछ परिवारों में तो माता-पिता दोनों ही नहीं बचे। ऐसी स्थिति में भविष्य को लेकर बच्चों के सामने संकट सवाल बन कर खड़ा हो गया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि वैसे बच्चे-बच्चियों जिनके माता पिता दोनो की मृत्यु हो गई, जिनमें कम से कम एक की मृत्यु कोरोना से हुई हो, उनको ‘बाल सहायता योजना’ अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा 18 वर्ष होने तक 1500 रूपए प्रतिमाह दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिन अनाथ बच्चे-बच्चियों के अभिभावक नहीं हैं, उनकी देखरेख बालगृह में की जाएगी। ऐसे अनाथ बच्चियों का कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में प्राथमिकता पर नामांकण कराया जाएगा।

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन योजना

शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी में अनाथ हुए बच्चों के लिए सहायता का बड़ा ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता की मौत कोरोना से हुई है उन्हें “पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन योजना’

(PM Cares for Children Scheme) के तहत 18 साल की उम्र तक आर्थिक सहायता के रूप में 1500 रुपए हर महीने दिए जाएंगे। इसके साथ ही 23 साल की उम्र पूरी होने पर उन्हें PM केयर्स फंड से 10 लाख रुपये मिलेंगे। बच्चों के शिक्षा का खर्च भी इसी फंड के तहत दिया जाएगा। हायर Education के लिए सरकार बच्चों को बिना ब्याज के लोन देगी।

ब्लैक फंगस के मरीज

नीतीश कुमार ने बोला कि बिहार में ब्लैक फंगस (Black Fungus) के मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई है। स्वास्थ्य विभाग को सभी चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पतालों में इसके ईलाज के लिए आवश्यक व्यवस्था करने को कहा गया है। कोरोना से बचाव के लिए लगातार सावधानी जरूरी है।चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yaas) का असर बिहार में कम हो रहा है। संबंधित विभागों एवं जिला प्रशासन को जिलों में पानी, बिजली, आवागमन एवं जन-सुविधाओं को बहाल रखने के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा गया है। परन्तु सभी को सजग रहना चाहिए।

यह भी पढ़ेहिंदी पत्रकारिता दिवस 2021: जानिए इस दिन का इतिहास, ब्रिटिशों के लिए मुसीबत बना यह समाचार पत्र

Related Articles