नीतीश कुमार का बड़ा बयान, कहा- मुझे नहीं रहना सीएम, सिद्धांतों से नहीं कर सकते समझौता

उन्होंने सहयोगी दलों को अपनी इच्छा सेे अवगत भी करा दिया था लेकिन उन पर दबाव इतना था कि उन्हें फिर से मुख्यमंत्री के पद की जिम्मेदारी लेनी पड़ी।

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज एक बार फिर कहा कि उन्हें पद की कोई चाहत नहीं है और उन्होंने सिद्धांतों से न कभी समझौता किया है न आगे करेंगेI

कुमार ने रविवार को जनता दल यूनाइटेड (जदयू) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सांसद आरसीपी सिंह के पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने जाने के बाद कहा कि विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद वह मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नहीं बैठना चाहते थे। उन्होंने सहयोगी दलों को अपनी इच्छा सेे अवगत भी करा दिया था लेकिन उन पर दबाव इतना था कि उन्हें फिर से मुख्यमंत्री के पद की जिम्मेदारी लेनी पड़ी।

उन्होंने कहा कि उन्हें पद की कोई चाहत नहीं है। कोई भी मुख्यमंत्री बनता तो इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने अब तक स्वार्थ के लिए नहीं बल्कि सिद्धांत के साथ राजनीति की है। इसके लिए कभी भी किसी तरह का कोई समझौता नहीं किया है और आगे भी नहीं करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके ऊपर बिहार के विकास और लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है और दूसरी ओर पार्टी का भी विस्तार तेज गति से किए जाने की जरूरत है लेकिन फिलहाल यह काम तेज गति से नहीं हो पा रहा था इसलिए उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद छोड़ा है। अब उन्हें बिहार का विकास करने का ज्यादा मौका मिलेगा वहीं आरसीपी सिंह पार्टी के विस्तार और मजबूत करने का काम तेज गति से करेंगे।

यह भी पढ़े:

Related Articles