कृषि कानून पर नीतीश बोले, किसानों में अकारण पैदा की जा रही गलतफहमी

नीतीश ने कृषि सुधार कानून के विरोध में कहा, किसानों में अकारण पैदा की जा रही गलतफहमी

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कृषि सुधार कानून के विरोध में पंजाब और हरियाणा से दिल्ली पहुंचे किसानों के जारी आंदोलन पर कहा कि कृषकों में अकारण गलतफहमी पैदा की जा रही है।

नीतीश कुमार का बयान

नीतीश कुमार ने 1289.25 करोड़ रुपये की लागत से 12.27 किलोमीटर लंबी अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) से दीघा को जोड़ने वाली एलिवेटेड सड़क के लोकार्पण के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार द्वारा किसानों के लिए लाए गये कृषि कानूनों से किसानों की फसलों खरीद में कोई कठिनाई नहीं होगी । पहले से ही बिहार में वर्ष 2006 में किसानों के हित में इस तरह की व्यवस्था की गयी है। अब यह व्यवस्था पूरे देश में लागू की गई है। बिहार में ये व्यवस्था लागू होने से किसानों को किसी प्रकार की समस्या नहीं हुयी है।

किसानों से सरकार की बातचीत  

मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों से बातचीत करना चाहती है। जब बातचीत होगी तो किसानों को सही जानकारी मिल सकेगी । किसानों की फसलों की खरीद में किसी प्रकार की बाधा नहीं होगी। केंद्र सरकार द्वारा इसके लिए निर्धारित लाभ किसानों को मिलेगा। उन्होंने कहा कि किसानों में अकारण गलतफहमी पैदा किया जा रहा है।

खरीद का लक्ष्य

नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार के किसानों को किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं हो रही है और फसलों की खरीद का कार्य चल रहा है। इस वर्ष 30 लाख टन से अधिक खरीद का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि किसानों के द्वारा जो आंदोलन चलाया जा रहा है, उसको लेकर बातचीत होनी चाहिए।

कृषि कानून का विरोध

गौरतलब है कि कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली कूच करने वाले किसानों को आखिरकार राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने की अनुमति मिलने के बाद वे बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे हैं। दिल्ली-हरियाणा सीमा पर पुलिस और किसानों के बीच हुई झड़प के बाद केंद्र सरकार ने यह फैसला किया है।

यह भी पढ़ेकृषि कानून पर बोले मोदी, छल से नहीं गंगा जल जैसी पवित्र नीयत से हो रहा है काम

यह भी पढ़ेकोरोना वैक्सीन को लेकर PM मोदी ने कहा, ‘संबंधित विभाग कंपनियों के साथ चर्चा करें’

Related Articles

Back to top button