रेपो रेट (Repo Rate) में कोई बदलाव नहीं, जानें कितना है GDP ग्रोथ?

एमपीसी (MPC) की पहली समीक्षा बैठक में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने रेपो रेट (Repo Rate) में कोई बदलाव नहीं किया है, एमपीसी ने बिना किसी बदलाव के रेपो रेट 4% रखने के लिए वोट किया है

मुंबई: 2021 का बजट पास होने के बाद एमपीसी (MPC) की पहली समीक्षा बैठक में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने रेपो रेट (Repo Rate) में कोई बदलाव नहीं किया है। मौद्रिक नीति समिति(MPC) ने एकमत से बिना किसी बदलाव के रेपो रेट 4% रखने के लिए वोट किया है।

GDP ग्रोथ

आरबीआई के गवर्नर (RBI Governor ) शक्तिकांत दास ने कहा कि कमेटी ने सर्वसम्मति से रेपो रेट में बदलाव नहीं करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि 2021-22 में जीडीपी ग्रोथ 10.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

महंगाई दर

कोरोना वायरस के कारण से देश कि अर्थव्यवस्था काफी ज्यादा प्रभावित हुई थी। नए साल 2021 का बजट पास होने के बाद एमपीसी (MPC) ने अपनी पहली समीक्षा बैठक में ब्याज के दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। RBI गवर्नर ने बताया कि देश के आर्थिक विकास में काफी बदलाव हुआ है जिसके कारण महंगाई दर 6 फीसदी घटी है।

यह भी पढ़ेIND vs ENG: पहले टेस्ट मैच से बाहर हुए अक्षर पटेल, इन खिलाड़ियों को मिला मौका

क्या है रेपो रेट?

भारत में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) अर्थव्यवस्था में धन की आपूर्ति को कम या अधिक करने के लिए रेपो और रिवर्स रेपो को काम में लेता है। आरबीआई वाण्यिजिक बैंकों को जब उधार देता है तो उसे रेपो दर (repo rate) कहा जाता है। मुद्रास्फीति के समय RBI रेपो दर को बढ़ा देता है जिससे बैंकों द्वारा धन उधार लेने और अर्थव्यवस्था में धन की आपूर्ति कम होने को हतोत्साहित (Discouraged) किया जाता है।

यह भी पढ़े‘ब्लैक’ को 16 वर्ष पूरे होने पर अमिताभ बच्चन ने फिल्म की यादों को किया ताजा

Related Articles

Back to top button