धारा 144 का नहीं फर्क, खेली गई खून की होली, बदमाशों ने हिस्ट्रीशीटर को मारी गोली

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ में बदमाशों अब पुलिस कमिश्नरेट का न तो खौफ न धारा 144 का डर।पुलिस के सभी सख्ती को खुला चुनौती देते हुए बदमाशो ने सआदतगंज इलाके में कैंपवेल रोड पर शनिवार रात भरे बाजार दोस्तों के साथ खड़े हिस्ट्रीशीटर अनवर उर्फ अन्नू की एक युवक ने गोली मारकर हत्या कर दी।

जानकारी के मुताबिक, सआदतगंज इलाके के चौपटिया के तंबाकू मंडी मोहल्ला के रहने वाले अनवर (35) का हिस्ट्रीशीटर था। उसके खिलाफ सआदतगंज, चौक, ठाकुरगंज समेत कई थानों में करीब 35 से अधिक मुकदमें दर्ज हैं। शनिवार रात करीब आठ बजे वह कैंपवेल रोड पर वाजपेयी पूड़ी वाले की दुकान पर साथी बजरंग सोनकर व चार अन्य दोस्तों के साथ समोसे खा रहा था।

इसी इलाके के गुल्लू शाह तकिया मोहल्ले में रहने वाला शारिक आया और अनवर से बातचीत की। इसी दौरान दोनों में कहासुनी हुई शारिक ने तमंचा निकालकर अनवर की कनपटी पर गोली मार दी। इससे अनवर वहीं ढेर हो गया तो हमलावर दोबारा तमंचा लोड करके फायरिंग करते हुए भागने लगा।

घेराबंदी कर दबोचा

ये घटना देखते ही अनवर के दो साथियों ने भी असलहे निकालकर फायरिंग करते हुए घेराबंदी कर शारिक को दबोच लिया। सआदतगंज कोतवाली से इंस्पेक्टर शैलेंद्र कुमार पुलिस फोर्स लेकर पहुंच गए और शारिक को हिरासत में ले लिया।

मौके पर अधिकारी

सूचना पर एडीसीपी (पश्चिम) चिरंजीव नाथ सिन्हा, एसीपी चौक आईपी सिंह कई थानों की फोर्स लेकर मौके पर पहुंच गए। अनवर को ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। शारिक को सआदतगंज कोतवाली ले जाकर पूछताछ की गई।

छेड़छाड़ के मामले में चल रहा था विवाद

पुलिस के मुताबिक उसने बताया कि छेड़छाड़ के मामले में वह कई दिन से अनवर से उसके छोटे भाई टीपू की शिकायत कर रहा था, लेकिन वह उसकी तरफदारी करता था। इसे लेकर शनिवार रात बातचीत के दौरान विवाद होने पर शारिक ने अनवर को गोली मार दी। आरोपी के पास से .315 बोर का तमंचा बरामद हुआ है।

Related Articles