विरोध के दौरान किसानों की मौत का कोई रिकॉर्ड नहीं, सरकार ने संसद को दी जानकारी

नई दिल्ली: संसद के शीतकाली सत्र का आज तीसरा दिन है और विपक्ष के हंगामे के कारण राज्यसभा और लोकसभा स्थगित हो गई है। वहीं, संसद परिसर में विपक्षी सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्ष का प्रदर्शन जारी है। दूसरी ओर, केंद्र ने संसद को बता की सरकार के पास उन किसानों का कोई रिकॉर्ड नहीं है जो साल भर के किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान मारे गए थे और इसलिए उनके परिवारों को मुआवजा देने का कोई सवाल ही नहीं था, केंद्र सरकार ने बुधवार को संसद को सूचित किया।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने एक सवाल के जवाब में सदन को बताया, “कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के पास इस मामले में कोई रिकॉर्ड नहीं है जो विरोध के दौरान मारे गए और इसलिए सवाल ही नहीं उठता।”

विपक्ष के नेताओं और विरोध कर रहे किसान संघों ने कहा है कि केंद्र के तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान 700 से अधिक किसानों की जान चली गई।

यह भी पढ़ें: Parliament: 12 राज्यसभा सदस्यों के निलंबन को लेकर विपक्षी सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास प्रदर्शन

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles