नोएडा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, ठक-ठक गैंग के तीन बदमाश गिरफ्तार (Arrested)

नोएडा: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गौतमबुद्ध नगर जिले के नोएडा (Noida) के सेक्टर 39 थाना पुलिस ने गुरुवार की सुबह गुलेल और छर्रों की मदद से कार का शीशा तोड़कर लूट-पाट करने वाले ठक-ठक गिरोह के तीन बदमाशों को गिरफ्तार (Arrested) किया।

पुलिस ने गिरफ्तार (Arrested) बदमाशों के कब्जे से चोरी के चार लैपटॉप, दो लैपटॉप बैग, एक पर्स, 510 डॉलर, 550 यूरो, 1665 युआन, 305 दिरहम, 160 थाई करेंसी, 8870 रुपये, तीन अंगूठी, एक पेन ड्राइव, एक गुलेल, एक पॉकेट छर्रे, एक स्कूटी बिना नम्बर की बरामद की है। पुलिस ने पकड़े गए तीनों बदमाशों के नाम संजय, अमित और राजू बताएं है। तीनों बदमाश ठक-ठक गिरोह के सदस्य हैं जो दिल्ली के मदनगीर इलाके के रहने वाले हैं।

गुलेल से गाड़ी का शीशा तोड़ देते थे

एडीसीपी (ADCP) रणविजय सिंह के मुताबिक गाड़ियों में से शीशा तोड़कर लैपटॉप चुराने वाला गैंग नोएडा और एनसीआर में सक्रिय हैं। कुछ दिन पहले ही थाना 49 पुलिस ने इस प्रकार के गैंग के लोगों को गिरफ्तार (Arrested) किया था। इस बार थाना 39 पुलिस ने ऐसे शातिर गुलेल मार शीशा तोड़कर सामान चुराने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ा है।

एडीसीपी के मुताबिक गैंग के सदस्य सेफ्टी पिन में छोटी सी गुलेल बनाते थे। उसमें साइकिल में इस्तेमाल किए जाने वाले छर्रे से शीशे पर मारते थे। शीशा हल्के आवाज के साथ चूर-चूर हो जाता था। फिर ये रुमाल से शीशे को साफ कर कार में रखे लैपटॉप, बैग, नकदी और दूसरे सामान उड़ा लेते थे।

इस गिरोह को डेरा के नाम से पुकारा जाता है

जानकारी के अनुसार बदमाश गिरोह को डेरा के नाम से पुकारते हैं। दिल्ली के मदनगीर में इन बदमाशों के करीब 100 डेरे हैं और हर डेरे में 5-6 सदस्य हैं। इस तरह से करीब 500 से 600 लोग इस चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे। दक्षिण भारत के रहने वाले ये जाति से आदिवासी हैं, लेकिन इनकी भाषा तमिल, तेलुगू या कन्नड़ नहीं है। इन्होंने आपसी बातचीत के लिए अपनी कोडवर्ड की अलग भाषा तैयार कर रखी है।ये गिरोह अबतक कई हजार चोरी की वारदातों को अंजाम दे चुके हैं।

यह भी पढ़ें:

Related Articles