Kumbh Mela के दौरान फर्जी Covid जांच घोटाले में तीन के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

यह घोटाला उन लोगों को निगेटिव कोविड परीक्षण रिपोर्ट जारी करने से संबंधित है, जिनके नमूने कभी लिए ही नहीं गए और वे Kumbh Mela में शामिल भी नहीं हुए थे।

नई दिल्ली: हरिद्वार की एक अदालत ने Kumbh के दौरान फर्जी Covid जांच मामले के तीन मुख्य आरोपियों के खिलाफ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने गैर जमानती वारंट जारी किया है। मामले के संबंध में दर्ज प्राथमिकी में नामित तीन कंपनियों में दो फर्म और उनके मालिक शामिल हैं।

हरिद्वार के SSP सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने कहा कि सीजेएम की अदालत से गैर जमानती वारंट प्राप्त करने के बाद विशेष जांच दल (SIT) द्वारा उन्हें गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आरोपियों की तलाश में पुलिस दल उत्तर प्रदेश, हरियाणा और नई दिल्ली भेजे गए हैं।

यह घोटाला उन लोगों को निगेटिव कोविड परीक्षण रिपोर्ट जारी करने से संबंधित है, जिनके नमूने कभी लिए ही नहीं गए और वे Kumbh Mela में शामिल भी नहीं हुए थे। नोएडा स्थित मैक्स कारपोरेट सर्विसेज, जिसे कुंभ के दौरान कोविड परीक्षण करने का काम सौंपा गया था। मैक्स कारपोरेट सर्विसेज ने दिल्ली स्थित लालचंदानी लैब्स और हिसार स्थित नलवा लैब्स को काम आउटसोर्स किया था। उत्तराखंड में दो अधिकारियों को हरिद्वार कुंभ के दौरान फर्जी कोविड परीक्षण घोटाले में कथित संलिप्तता के लिए पिछले सप्ताह निलंबित कर दिया गया था।

CM के आदेश के बाद मेला अधिकारी को किया गया था निलंबित 

CM पुष्कर सिंह धामी के आदेश पर तत्कालीन मेला अधिकारी (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) डॉ अर्जुन सिंह सेंगर और तत्कालीन प्रभारी अधिकारी (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) डॉ एनके त्यागी को 26 अगस्त को निलंबित कर दिया गया था। यह कार्रवाई फर्जी परीक्षण घोटाले की जांच के लिए हरिद्वार के जिला मजिस्ट्रेट द्वारा गठित एक जांच समिति की सिफारिश पर आधारित थी।

यह भी पढ़ें: गोवा चुनाव से पहले कांग्रेस ने समितियों का किया गठन

Related Articles