बिना लक्षण वाले सामान्य कोरोना संक्रमितों को सात दिन होम आइसोलेशन में रखा जाएगा

कानपुर

स्वास्थ्य विभाग ने सात दिन की होम आइसोलेशन गाइडलाइन जारी कर दी है। बिना लक्षण वाले सामान्य कोरोना संक्रमितों को सात दिन होम आइसोलेशन में रखा जाएगा। बशर्ते उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत न हो, उनके लिए घर में अलग कमरा व शौचालय हो। घर के अन्य सदस्यों के क्वारंटाइन होने की सुविधा भी उपलब्ध होनी चाहिए। उनका आक्सीजन सेचुरेशन 94 से ऊपर हो। साथ ही उनकी देखरेख करने वाले स्वजन का कोरोना वैक्सीनेशन पूरा हो चुका हो, वह 24 घंटे उपलब्ध हो। उनसे रैपिड रिस्पांस टीम के सदस्य एक शपथ पत्र भी भराएंगे। इंटीग्रेटेड कोविड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के नोडल अफसर डा. राजेश्वर सिंह ने बताया कि शासन ने होम आइसोलेशन की नई गाइडलाइन रविवार को जारी की है।

यह हैं अहम तथ्य

  •  60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति, जो हाइपरटेंशन, मधुमेह, हार्ट, लिवर, किडनी की लंबी बीमारी और न्यूरोलाजिकल समस्या से पीडि़त होंगे। डाक्टर उनका पूरी तरह से परीक्षण करने के उपंरात की होम आइसोलेशन देने पर विचार करेंगे।
  •  कमजोर रोग प्रतिरोधक वाले, एचआइवी संक्रमित, अंग प्रत्यारोपण कराने वाले, कैंसर के कीमोथेरेपी कराने वाले संक्रमितों को होम आइसोलेशन की अनुमति नहीं प्रदान की जाएगी। डाक्टर उनका परीक्षण व उनकी स्थिति का आकलन करके निर्णय ले सकते हैं।
  •  होम आइसोलेशन के दौरान संक्रमित की देखभाल करने वाले को संबंधित चिकित्सालय के चिकित्सक से संपर्क बनाए रखना जरूरी होगा। तीन दिन तक बुखार न आने पर सैंपल कलेक्शन के सात दिन बाद होम असाइसोलेशन समाप्त माना जाएगा, जांच की जरूरत नहीं होगी।

डाक्टर की तब पड़ेगी जरूरत:

  • तीन से अधिक दिन तक शरीर का तापमान 100 डिग्री से ऊपर रहे।
  •  संक्रमित व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ होने पर।
  •  आक्सीजन लेवल एक घंटे तक तीन बार 94 से नीचे रहने पर।
  •  सीने पर लगातार दर्द या दबाव महसूस होने पर।
  •  सुस्ती या बेहोशी की स्थिति आने पर।

Related Articles