उत्तर कोरिया ने किया परमाणु से भी ज्यादा ताकतवर बम का परीक्षण, अमेरिका परेशान लेकिन भारत खुश

0

परमाणु सशस्त्र प्योंगयांग अपने कट्टर दुश्मन अमेरिका तक परमाणु मिसाइल दागने में सक्षम होने के तरीकों को लंबे समय से तलाश रहा है। इस बात को लेकर प्रश्न बना हुआ है कि क्या उसने सफलतापूर्ण अपने हथियारों को छोटा रूप दे दिया है और क्या उसके पास कोई हाइड्रोजन बम है, लेकिन आधिकारिक स्थानीय न्यूज एजेंसी ने कहा कि भूकंप से पहले नेता किम जोंग उन ने परमाणु हथियार संस्थान में इस प्रकार के उपकरण की जांच की थी।

यह भी पढ़ें: इन मुसलमानों पर चला पीएम मोदी का हंटर, निकाले जायेंगे देश से बाहर

उत्तर कोरिया द्वारा किये गए हाइड्रोजन बम के सफल परीक्षण से भले ही अमेरिका और जापान के माथे पर परिशानियों की लकीरे आ गई हों लेकिन भारत को फायदा जरूर हुआ है। दरअसल, उत्तर कोरिया और भारत के बीच में गहरा संबंध देखा गया है।

दोनों देशों के बीच 1970 से डिप्लोमैटिक संबंध हैं। भारत समय-समय पर उत्तर कोरिया की मदद भी करता रहा है। भारत बीच बीच में उत्तर कोरिया की सेना को ट्रेनिंग भी देता रहा है। कोरियाई युद्ध के दौरान भारत ने वहां घायल सैनिकों के इलाज के लिए डॉक्टर भी मुहैया कराया था। वर्ष 2002 में जब उत्तर कोरिया में अकाल की स्थिति पैदा हो गई थी तो भारत ने वहां खाद्यान भी भिजवाया था। वहीं 2010 में 1 मिलियन यूएस डॉलर की दाल भेजी थी।

 

loading...
1
2
3
शेयर करें