कांग्रेस से निकाले गए पूर्व सीएम वाघेला ने बीजेपी में शामिल होने पर दिया ये हैरान करने वाला जवाब

0

गांधीनगर। कल गुजरात की राजनीति में एक बड़ा भूचाल आ गया। गुजरात कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम शंकर सिंह वाघेला को पार्टी से निकाल दिया गया। कल अपने 77वें जन्मदिन पर उन्होंने खुद ये कही। वाघेला ने कहा था कि कांग्रेस ने उन्हें 24 घंटे पहले पार्टी से निकाल दिया है। वहीं, इसके बाद उनकी बीजेपी में शामिल होने की अटकलें सामने आने लगीं। जिसपर शंकर सिंह वाघेला ने विराम लगाते हुए उसे नकार दिया। उन्होंने साफ कहा कि वह भाजपा में शामिल नहीं होंगे।

शंकर सिंह वाघेला

वाघेला ने साथ ही कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से उनका पुराना नाता है

वाघेला ने साथ ही कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से उनका पुराना नाता है। इसी साल नवंबर में गुजरात में विधानसभा चुनाव होना है। शंकर सिंह वाघेला ने 17 साल पहले भाजपा छोड़ कर अपनी पार्टी बनायी थी और फिर उसका कांग्रेस में विलय हो गया था। उन्होंने कहा कि बापू रिटायर नहीं होगा, यह मेरी जिंदगी का निर्णायक मौका है। वाघेला गुजरात में बापू के नाम से मशहूर हैं। वाघेला ने आज नेता विपक्ष का पद भी त्याग दिया।

नेता प्रतिपक्ष से इस्तीफा दे रहे हैं

अपने 77वें जन्म दिवस पर गांधीनगर के टाउन हॉल परिसर में आयोजित सम-संवेदना सम्मेलन में वाघेला ने खुद कांग्रेस छोडऩे का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि वे नेता प्रतिपक्ष से इस्तीफा दे रहे हैं। राज्यसभा के चुनाव के बाद 15 अगस्त से पूर्व वे विधायक पद से भी इस्तीफा दे देंगे। वाघेला ने यह भी कहा कि अब वे दलगत राजनीति भी छोड़ रहे हैं। वे न तो भाजपा और न ही किसी अन्य राजनीतिक दल में शामिल होंगे।

सोनिया-राहुल की तारीफ की

हालांकि वाघेला ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व उपाध्यक्ष राहुल गांधी की सराहना की और कहा कि उनके लिए जनता ही हाईकमान है। सब कुछ छोड़ देंगे, लेकिन जनता को नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने सोनिया व राहुल से दिल्ली में बैठक में यह कह दिया था कि वे पार्टी में ज्यादा समय तक नहीं रहेंगे और साथ में यह भी कहा था कि वे भाजपा में शामिल नहीं होंगे।

loading...
शेयर करें