श्रीनिवासनन की बेटी रूपा गुरुनाथ के खिलाफ हितों के टकराव का नोटिस जारी

नैतिक अधिकारी डीके जैन ने इस मामले में टीएनसीए की अध्यक्ष रूपा गुरुनाथ को 24 दिसंबर तक सफाई देने को कहा है और संयोग से उसी दिन बीसीसीआई ने अपनी वार्षिक आम बैठक भी निर्धारित की है।

चेन्नई: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के नैतिक अधिकारी न्यायमूर्ति डीके जैन ने एक शिकायत के आधार पर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन की बेटी और तमिलनाडु क्रिकेट संघ (टीएनसीए) की अध्यक्ष रूपा गुरुनाथ के खिलाफ हितों के टकराव के मामले में नोटिस जारी किया है।

नैतिक अधिकारी डीके जैन ने इस मामले में टीएनसीए की अध्यक्ष रूपा गुरुनाथ को 24 दिसंबर तक सफाई देने को कहा है और संयोग से उसी दिन बीसीसीआई ने अपनी वार्षिक आम बैठक भी निर्धारित की है।

संजीव गुप्ता की शिकायत पर जारी किया गया नोटिस

आठ दिसंबर को जारी नोटिस में न्यायधीश डीके जैन ने कहा है कि, “उन्होंने मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ के पूर्व सदस्य संजीव गुप्ता की शिकायत पर यह नोटिस जारी किया है।” संजीव गुप्ता ने 23 नवंबर को डाली अपनी शिकायत में रूपा पर बीसीसीआई के संविधान का उल्लघंन करने का आरोप लगाते हुए कहा कि रूपा गुरुनाथ एक समय पर दो पदों पर तैनात है, जिसमें से एक पद टीएनसीए अध्यक्ष है तथा वह इंडिया सीमेंट्स लिमिटेड की एक पूर्णकालिक निदेशक भी है जो कंपनी चेन्नई सुपर किंग्स क्रिकेट लिमिटेड की मालिक है।

‘रूपा गुरुनाथ ने किया बीसीसीआई के संविधान का उल्लंघन’

शिकायतकर्ता संजीव गुप्ता के अनुसार सीएसके क्रिकेट लिमिटेड के सभी सात निदेशक इंडिया सीमेंट्स की सहायक कंपनियों में निदेशक के रूप पर तैनात है जो यह साबित करता है कि रूपा गुरुनाथ ने बीसीसीआई के संविधान का उल्लंघन किया है।

इस शिकायत के आधार पर न्यायधीश जैन ने अपने शुरूआती आदेश में कहा कि शिकायत में कुछ मामला सामने आया है इसलिए रूपा गुरुनाथ को 24 दिसंबर तक अपना जवाब दर्ज कराना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि सितंबर 2019 में रूपा गुरुनाथ राज्य क्रिकेट संघ के पहली महिला प्रमुख बनी थी। उन्हें सर्वसम्मति से टीएनसीए अध्यक्ष पद के लिए चुना गया था। यह क्रिकेट प्रशासन में उनकी पहली प्रविष्टि थी। वही चेन्नई सुपर किंग्स टीम के पूर्व अधिकारी एवं उनके पति गुरुनाथ मयप्पन को वर्ष 2013 में आईपीएल सट्टेबाजी कांड में उनकी भूमिका को लेकर न्यायमूर्ति आरएम लोढा समिति द्वारा क्रिकेट में शामिल होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

ये भी पढ़ें: 38 जिलों में आज से होंगी किसान रैली, भाजपा नेता बताएंगे नए कृषि कानूनों के फायदे 

Related Articles