IPL
IPL

अब पेरेंट्स के हिसाब से बच्चे देख सकेंगे YouTube वीडियोज, बस इन सेटिंग्स को करना होगा इनेबल

नई दिल्ली: आजकल मोबाइल और इंटरनेट हर किसी के लिए जरुरत बन गया है, इन दोनों चीजों के बिना लोगो को अपनी लाइफ सूनी सी लगती है। लेकिन आजकल बच्चों में मोबाइल का एडिक्शन कुछ ज्यादा बढ़ गया है। बच्चों के हाथ में मोबाइल हो और वो YouTube का इस्तेमाल न करें ऐसा तो काफी मुश्किल है। और ये बात उनके पेरेंट्स के लिए चिंता का सबब बनती जा रही है, इसी बात का ध्यान रखते हुए YouTube ने अपने एक नए और ख़ास फीचर की घोषणा की है।

इन फीचर्स को करना होगा इनेबल

YouTube के इस नए फीचर के जरिये पेरेंट्स अपने बच्चों के मोबाइल में मौजूद यूट्यूब पर कंट्रोल कर सकेंगे। पेरेंट्स इस बात पर कंट्रोल कर सकेंगे की उनके बच्चों को क्या देखना है और क्या नहीं। इस फीचर के आने के बाद पेरेंट्स अपने बच्चों को ऐज रिस्ट्रिक्शन वाले वीडियो देखने से रोक पाएंगे।

ये फीचर अभी YouTube Kids ऐप पर उपलब्ध नहीं होगा, इसे अभी सिर्फ यूट्यूब एप्प के लिए जारी किया जा रहा है। शुरूआती बीटा टेस्टिंग के बाद इस फिचर को सबके लिए शुरू कर दिया जायेगा। YouTube इस फीचर के लिए तीन अलग-अलग सेटिंग्स (एक्सप्लोर, एक्सप्लोर मोर, और मोस्ट ऑफ यूट्यूब) जारी करेगा।

YouTube की एक्सप्लोर सेटिंग

एक्सप्लोर सेटिंग को 9 साल से ऊपर के बच्चों के लिए लाया गया है, इसे इनेबल करने के बाद वीडियो में व्लॉग्स, ट्यूटोरियल, गेमिंग वीडियो, म्यूजिक क्लिप, न्यूज देखी जा सकती है। ये सेटिंग YouTube Kids के हिसाब से बड़े बच्चों के लिए है।

YouTube की एक्सप्लोर मोर सेटिंग

एक्सप्लोर मोर सेटिंग 13 साल से ऊपर के बच्चों के लिए है। इस सेटिंग को इनेबल करने के बाद बच्चे एक्सप्लोर सेटिंग से ऊपर के वीडियोस देख सकेंगे। इस कैटेगरी में बच्चे लाइव स्ट्रीम भी कर सकेंगे।

मोस्ट ऑफ यूट्यूब सेटिंग

मोस्ट ऑफ यूट्यूब सेटिंग 16 साल से ऊपर के बच्चे लिए है। इस सेटिंग को इनेबल करने के बाद बच्चों को रेगुलर YouTube जैसा ही एक्सपीरियंस मिलेगा। वे ऐज रिस्ट्रिक्टेड वीडियोज को छोड़ कर लगभग सभी वीडियोज देख सकेंगे। YouTube की सेटिंग को इनेबल करने के बाद बच्चे यूट्यूब पर टीनएजर्स के लिए उपलब्ध सेंसिटिव वीडियोज भी देख सकेंगे। इस सेटिंग को ऑन करने के बाद इन-ऐप परचेज और कमेंट को भी डिसेबल हो जायेगा।

ये भी पढ़ें: Social Media, OTT Guidelines: 24 घंटे के भीतर हटाना होगा कंटेंट

Related Articles

Back to top button