अब सबके मुंह मे पड़ेगा ताला, एक साल के लिए बंद हुआ गुटखा, पान मसाला

कलकत्ता: पश्चिम बंगाल सरकार ने गुटखा और पान मसाला के निर्माण, भंडारण और बिक्री पर एक साल का प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है। राज्य सरकार द्वारा लगाया गया यह प्रतिबंध अगले एक साल के लिए 7 नवंबर, 2021 से प्रभावी होगा। पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है।

गौरतलब है कि गुटखा और पान मसाला पर एक साल पहले प्रतिबंध लगाया गया था। उस अवधि की समाप्ति से पहले नए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। राज्य सरकार की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि गुटखा, पान-मसाला समेत तंबाकू उत्पाद स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक हैं क्योंकि तंबाकू पदार्थों में निकोटिन अधिक मात्रा में पाया जाता है।

अधिसूचना में कहा गया है कि “तंबाकू और/या निकोटीन युक्त गुटखा और पान मसाला का निर्माण, भंडारण, बिक्री या वितरण, चाहे वह किसी भी नाम से बाजार में उपलब्ध हो, एतद्द्वारा 7 तारीख से एक वर्ष की अवधि के लिए प्रतिबंधित है। नवंबर 2021।”

अधिसूचना में यह भी कहा गया है कि खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम, 2006 की धारा 30 खाद्य सुरक्षा आयुक्त को राज्य भर में किसी भी खाद्य पदार्थ के निर्माण, भंडारण, वितरण या बिक्री पर ऐसे प्रतिबंध लगाने का अधिकार देती है, जिसके तहत बंगाल सरकार ने यह निर्णय लिया।

इससे पहले देश के कई राज्यों में निकोटिन मिश्रित गुटखा या पान मसाला बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। जिन राज्यों में गुटखा और पान मसाला पर प्रतिबंध लगाया गया है उनमें उत्तराखंड, बिहार, दिल्ली और यूपी शामिल हैं। ये प्रतिबंध पहले एक साल के लिए लगाए जाते हैं और बाद में इन्हें बढ़ाया जाता है।

 

Related Articles