अब शोर शराब रोकना हुआ आसान, बस एक कॉल करिए इस नंबर पर

ध्वनि प्रदूषण के लिए चलाया जा रहा है अभियान

अगर आप पड़ोसी के घर में बज रहे DJ जैसी म्यूजिक से परेशान हैं तो तत्काल 112 नम्बर डायल करिए. पुलिस आकर पड़ोसी के खिलाफ कार्रवाई करेगी. यही नहीं धार्मिक स्थलों पर भी तय मानक से तेज आवाज होने पर आप पुलिस की मदद ले सकते हैं. शोर शराबा की परेशानी से राहत दिलाने और ध्वनि प्रदूषण की रोकथाम के लिए यूपी 112 अभियान चला रहा है.

आपकी एक कॉल पर मिलेगी मदद

ADG यूपी-112 अशोक कुमार ने बताया कि अपने आस-पास होने वाले ध्वनि प्रदूषण से परेशान हैं तो बेझिझक यूपी-112 पर कॉल कर के या सोशल मीडिया के अन्य माध्यमों पर सूचना दे कर पुलिस की सहायता ले सकते हैं. उन्होंने बताया कि पिछले 11 माह में पूरे प्रदेश से ध्वनि प्रदूषण के 13,838 मामलों में नागरिकों ने पीआरवी की सहायता ली है. इस दौरान राजधानी लखनऊ में सबसे अधिक 1421 लोगों ने ध्वनि प्रदूषण के खिलाफ यूपी-112 की मदद ली है.

विद्यार्थियों के लिए भी सुविधा

किसी विद्यार्थी को पढाई के दौरान या नागरिकों को किसी अन्य तरह की दिक्कत तेज आवाज से होती है तो वह आपात सेवा 112 पर कॉल कर के या सोशल मीडिया के अन्य माध्यमों से पुलिस की सहायता ले सकते है. यूपी- 112 पर कॉल आते ही शिकायत दर्ज कर पुलिस रिस्पांस व्हीकल (पीआरवी ) को तत्काल मौके पर भेजा जाता है. शिकायत के आधार पर पीआरवी मौके पर जा कर ध्वनि प्रदूषण को बंद करने के लिये निर्देशित करती है. शोर-शराबा करने वाला यदि पुलिस का निर्देश मानते हुए शोर बंद कर देता है तो उसे चेतावनी देते हुए छोड़ा जा सकता है. ऐसे लोग या संस्थाएं जो बार-बार समझाने और चेतावनी देने के बाद भी ध्वनि प्रदूषण फैलाते हुए व्यवधान पैदा करते हैं तो उनके खिलाफ स्थानीय थाना स्तर पर पुलिस वैधानिक कार्यवाई की जाती है.

यह भी पढ़ें- PD Exclusive: उम्रकैद की सजा काट रहा ‘कलुआ’ बन्दर, वजह जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles