अब एक्सपायरी डेट लिखे बिना मिठाई नहीं बेच पाएंगे दुकानदार, होगी कार्रवाई

बाजार में बिकने वाले दुग्ध उत्पादों व खुली मिठाइयों पर उपयोग करने की तारीख अंकित करना अनिवार्य कर दिया गया है। यह नियम पहली जून से लागू हो जाएगा। यदि कोई विक्रेता उपयोग करने की तारीख को अंकित नहीं करता है तो उस पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा कार्रवाई होना तय है।भारतीय खाद्य सुरक्षा व मानक प्राधिकरण द्वारा इसको लेकर नए नियम तैयार किए गए हैं।

नए नियमों के अनुसार देशभर में दूध से बने खाद्य पदार्थों और खुली मिठाइयों को दुकान में सजाने से पूर्व ही उस पर निर्माण की तारीख और उपयोग की अवधि लिखनी होगी। नियम के तहत इसमें दो लाख रुपये तक के जुर्माना का प्रावधान है।

इस नियम को लेकर स्वास्थ्य विभाग चंबा द्वारा भी कारोबारियों को जागरूक करने के लिए मुहिम आरंभ कर दी गई है। खाद्य सुरक्षा और मानक (पैकेजिंग और लेबलिंग) विनियम, 2011 के अनुसार यह नियम पहले सिर्फ पैकड मिठाइयों पर ही लागू होता था। अब इस मापदंड को खुली मिठाइयों के लिए भी अनिवार्य किया गया है।

देश भर में बिकने वाली मिठाइयों की लाइफ शेल्फ तैयार कर ली गई है। मिठाइयों को वेरी शॉर्ट लाइफ (जिस दिन बनाई की गई, उसी दिन एक्सपायरी होना), शार्ट लाइफ (तैयार करने के दो दिन बाद एक्सपायरी होना), लांग लाइफ (तैयार करने के सात दिन बाद एक्सपायरी होना), वेरी लांग लाइफ (तैयार करने के 30 दिन बाद एक्सपायरी होना) श्रेणियां बनाई गई हैं। बहरहाल, अब विक्रेताओं को दुग्ध उत्पादों व खुली मिठाइयों पर निर्माण व समाप्ति तिथि (एक्सपायरी डेट) प्रदर्शित करना अनिवार्य है।

भारतीय खाद्य सुरक्षा व मानक प्राधिकरण द्वारा दुग्ध उत्पादों व खुली मिठाइयों पर निर्माण तथा समाप्ति तिथि को प्रदर्शित करने के लिए नए नियम बनाए गए हैं, जो कि जून माह से लागू होंगे। इस संबंध में विक्रेताओं को जागरूक करने की मुहिम शुरू कर दी गई है।

Related Articles