अब 12 घंटे हो सकती है आपकी सिफ्ट, हफ्ते में सिर्फ इतने दिन ही करना होगा काम

नई दिल्ली: नौकरी करने वालों को अब ऑफिस में ज्यादा समय देना पड़ सकता है। क्योंकि श्रम मंत्रालय ने संसद में नए श्रम कोड का प्रस्ताव दिया है। जिसमें 8 घंटे की सिफ्ट को बढ़ाकर 12 करने पर विचार कर रही है। लेकिन खास बात है कि श्रम मंत्रालय ने दिए गए प्रस्ताव में एक हफ्ते में कुल काम के घंटों में किसी तरह का कोई इजाफा नहीं किया है।

12 घंटे हो सकती है आपकी सिफ्ट

श्रम मंत्रालय ने संसद में हाल ही में वर्किंग ऑवर 8 घंटे से बढ़ाकर अधिकतम 12 घंटे प्रतिदिन करने का प्रस्ताव दिया है। बता दें कि मंत्रालय ने व्यावसायिक सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्य शर्तें कोड 2020 के ड्राफ्ट रूल के तहत अधिकतम 12 घंटे के कार्य दिवस का प्रस्ताव दिया है। इसमें बीच में लंच करने का समय भी शामिल किया गया है।  लेकिन राहत की बात है कि 19 नवंबर 2020 को नोटिफाइड इस ड्राफ्ट रूल में वीकली वर्किंग ऑवर को 48 घंटे ही रखा गया है।

वहीं अगर हम मौजूदा प्रावधान की बात करें तो इसमें 8 घंटे प्रतिदिन कार्य करने का समय है। हफ्ते में 6 दिन काम करना होता है। और एक दिन का अवकाश होता है।

तीन दिन का मिल सकता है अवकाश

श्रम मंत्रालय द्वारा संसद में दिए गए प्रस्ताव में वीकली वर्किंग ऑवर को 48 घंटे ही रखा गया है। लेकिन जो पहले प्रावधान में था। जिसमें 8 घंटे की सिफ्ट और हफ्ते में 6 दिन काम करना होता है। अगर उस हिसाब से देखा जाए तो 12 घंटे की सिफ्ट और हफ्ते में 48 घंटे काम यानी कि हफ्ते में सिर्फ चार दिन ही काम करना होगा और तीन दिन का अवकाश मिलेगा।

श्रमिकों को ओवरटाइम भी मिल सकेगा

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यह भारत की विषम जलवायु परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए किया गया है। जहां काम पूरे दिन में बंटा हुआ होता है। इससे श्रमिकों को ओवरटाइम भत्ता के माध्यम से अधिक कमाई करने की सुविधा मिलेगी।

यह भी पढ़ें: आज बैंक जाने से पहले ध्यान दे, बैंकों में हड़ताल के चलते बाधित रहेगा कामकाज

Related Articles

Back to top button