odd even formula : सुप्रीम कोर्ट ने कहा, लोग प्रदूषण से मर रहे हैं, आप विरोध में जुटे हैं

0

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण घटाने के दिल्ली सरकार के odd even formula को खत्म करने की याचिका पर कड़ी नाराजगी जताई है। कोर्ट ने  कड़े शब्दों में याचिका पर जल्द सुनवाई से इन्कार करते हुए इसे पब्लिसिटी स्टंट करार दिया है। चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर, जस्टिस एके सीकरी और आर भानुमति की सदस्यता वाली बेंच ने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार प्रदूषण कम करने के लिए कुछ कदम उठा रही है और आप उसमें रोेड़ा अटका रहे हैं। चीफ जस्टिस ने कहा कि शहर की आबोहवा साफ करने के लिए सरकार ही नहीं, बल्कि हम सब को मिलकर सहयोग करना होगा। अगर कोई कमी होगी तो कोर्ट जरूर सरकार को निर्देश जारी करेगा।

odd even formula के खिलाफ ऐसी याचिकाओं पर जुर्माना भी हो सकता है

लोग प्रदूषण से मर रहे हैं और आप पब्लिसिटी के लिए odd even formula को चुनौती दे रहे हैं। पीठ ने याचिककर्ता बी बद्रीनाथ से कहा कि हम लोग कार पूलिंग कर रहे हैं और आप दिल्ली में प्रदूषण के खिलाफ उठाए गए कदम के खिलाफ खड़े हो गए हैं। आखिर आप जैसे एक युवा वकील को कोर्ट में पहुंचने में क्या दिक्कत हो रही है। इस तरह की याचिका प्रयासों को निष्फल करने की कोशिश है। ऐसी याचिका दाखिल करने पर भारी जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इस मामले की तुरंत सुनवाई की कोई जरूरत नहीं है। इसकी बारी आने पर ही सुनवाई होगी।

बसें बढ़ा कर और मेट्रो के फेरे ज्यादा लगाकर करें लोगों की मदद

odd even formula के खिलाफ याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय बेंच ने बृहस्पतिवार को कहा कि अगर जरूरत हुई तो हम बसों की तादाद बढ़ाने के लिए कह सकते हैं। बेंच ने दिल्ली मेट्रो रेल निगम(डीएमआरसी) आदि से कहा कि सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को और दुरुस्त करने की जरूरत है, जिससे कि लोगों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। कुछ दिनों पहले बेंच ने कहा कि वह दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन से मेट्रो कोचों की संख्या और फेरे बढ़ाने के लिए कह चुकी है। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा था सरकार सार्वजनिक परिवहन प्रणाली का नेटवर्क बढ़ाने के लिए प्रीमियम सर्विस जैसे कदम उठा सकती है।
loading...
शेयर करें