रक्षाबंधन पर बहन ने भाई को दिया जीवनदान, जिंदगी की डोर को कटने से बचाई जान

सूरत: रक्षाबंधन का पावन पर्व देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण पर्व माना जाता है। इस दिन भाई की कलाई पर उसकी रक्षा का कवच बांध कर खुद की हिफाज़त का वादा मांगा जाता है। ऐसे में अगर किसी इंसान को जिंदा जीने का उपहार मिल जाए तो शायद इससे बड़ा तोहफा कुछ हो नहीं सकता, एक ऐसा ही खूबसूरत तोहफा सूरत के एक भाई को उसकी अपनी बहन से मिला है।

यह उपहार जीवन भर उसके भाई के लिए अटूट प्यार की निशानी बनकर जिंदा रहेगा। सूरत में एक बहन ने अपने भाई की जिंदगी की डोर को कटने से बचा लिया। यह पर एक बहन ने रक्षा बंधन से ठीक पहले भाई-बहन के प्रेम के त्योहार को इस तोहफे से नए मायने मिले हैं।

संदीप कुमार उत्तर प्रदेश के लखनऊ में प्रिंसिपल इनकम टैक्स कमिश्नर के रूप में पोस्टेड हैं। वहीं डॉक्टर सुजाता देव लखनऊ के एक मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर और स्त्री-प्रसूति रोग विशेषज्ञ (गायनेकॉलजिस्ट) हैं। खबरों के मुताबिक, डॉक्टर सुजाता देव ने अपने भाई संदीप कुमार को किडनी डोनेट की है। उनका कहना है कि ‘मैं उसका शुक्रिया अदा नहीं कर सकता।

आम तौर पर भाई रक्षा बंधन के दिन बहनों को तोहफा देते हैं। लेकिन सुजाता ने अपनी किडनी के रूप में मुझे जीवन गिफ्ट किया है।’ शुक्रवार शाम लखनऊ रवाना होने से पहले डॉक्टर सुजाता देव ने कहा, ‘मेरे लिए मेरे बड़े भाई सब कुछ हैं। मुझे किडनी डोनेशन की जानकारी है और मैं यह जानती हूं कि किडनी डोनेट करने के बाद क्या सावधानियां बरतनी होती हैं। अपने भाई को नई जिंदगी देकर मैं बहुत खुश हूं।’

Related Articles