आंदोलन के 25 वें दिन किसानों का आवाहन, करेंगे भूख हड़ताल और बजाएंगे थाली

भारतीय किसान यूनियन के नेता जगजीत सिंह ढल्लेवाला ने कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे सभी किसान भाई प्रदर्शन स्थलों पर 21 दिसंबर को भूख हड़ताल करेंगे।

नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली के कई सीमाओं पर 25 वें दिन भी प्रदर्शन जारी है। इन दिनों कड़ाके की ठंड में भी किसान सरकार से तीन कृषि कानूनों को वापिस लेने की जिद्द पर अड़े हुए है। प्रदर्शन के दौरान जान गंवाने वालों को नमन करने के लिए पंजाब और हरियाणा सहित देश के सभी जिलों, तहसील व गांवों में किसानों ने रविवार को ‘श्रद्धांजलि दिवस’ मनाया। किसान संगठनों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को एक संयुक्त खुला पत्र लिखा है

भारतीय किसान यूनियन के नेता जगजीत सिंह ढल्लेवाला ने कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे सभी किसान भाई प्रदर्शन स्थलों पर 21 दिसंबर को भूख हड़ताल करेंगे। ये भी घोषणा की है कि 25 से 27 अगस्त तक हरियाणा में सभी टोल प्लाजा को मुफ्त कर देंगे। किसान संगठनों ने एनडीए के सहयोगियों का बायकॉट करने की अपील की है।

27 दिसंबर को बजाएंगे बर्तन

25वें दिन किसान यूनियनों ने अपने विरोध प्रदर्शन के दौरान सिंघु बॉर्डर पर मीडिया में लोगों से अपील करते हुए कहा है कि वह 27 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम के दौरान कृषि कानून के खिलाफ बर्तन बजाएंगे और ये जब तक पीएम मोदी संबोधन करेंगे तब तक थाली बजायेंगे।

ये भी पढ़ें : सेफर्ट और विलियम्सन के अर्धशतकों से न्यूजीलैंड ने जीती सीरीज

सरकार से की अपील

किसान नेता जसबीर सिंह भट्टी ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों को बदनाम करने में लगी हुई है और हम इसका डट कर इस ठंड में विरोध कर रहे हैं। सरकार हमारे बारे में सोच नहीं रहे है और हमें बदनाम करने में लगी हुई है। मैं कृषि मंत्री और सरकार से अपील करता हूं कि वे अपना अहंकार छोड़ें फिर मैं युवाओं और बच्चों को शांत रहने के लिए अपील करूंगा।

ये भी पढ़ें : दिव्यांगों के लिए लाँच हुआ ‘कैपसारथी ऐप’

कल करेंगे भूख हड़ताल

स्वराज इंडिया के प्रमुख योगेंद्र यादव ने कहा, देशभर में कल 21 दिसंबर सोमवार को सभी प्रदर्शन स्थलों पर किसान एक दिन की क्रमिक भूख हड़ताल करेंगे। उन्होंने कृषि कानूनों का विरोध कर रहे लोगों से प्रदर्शन स्थलों पर एक दिन की भूख हड़ताल करने का आह्वान किया। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान 23 दिसंबर को किसान दिवस मनाएंगे। उन्होंने कहा, हम लोगों से अनुरोध करते हैं कि इस दिन वे दोपहर का भोजन न पकाएं।

 

 

Related Articles

Back to top button