उद्धव को गवर्नर कोश्यारी के लिखे पत्र पर शाह बोले ‘शब्दों के चयन से बच सकते थे’

0

उद्धव को गवर्नर कोश्यारी के लिखे पत्र पर अमित शाह बोले- 'शब्दों के चयन से बच सकते थे'

नई दिल्ली: देश के गृह मंत्री अमित शाह ने एक टीवी चैनल को इंटरव्यू देते हुए महाराष्ट्र के गवर्नर के पत्र पर टिप्पड़ी की है, उन्होंने कहा कि, ‘राज्यपाल कोश्यारी अपने शब्दों का सही प्रकार से इस्तेमाल कर सकते थे और इस तरह के शब्दों का चयन करने से बच सकते थे। बता दें कि हाल ही में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक पत्र लिखा गया था। जिसमें राज्यपाल कोश्यारी ने मुख्यमंत्री ठाकरे पर अपने पत्र में सवाल खड़े करते हुए लिखा था, ‘कि क्या वह सेक्युलर हो गये हैं।’

कोश्यारी ने लिखा था व्यंगात्मक पत्र

बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना के संकट को देखते हुए सरकार ने मंदिर अभी तक नहीं खोले थे। सिद्धि विनायक मंदिर खुलवाने की मांग भाजपा कार्यकर्ता कर रहे थे जिसके बाद मंदिरों को फिर से खोलने को लेकर महाराष्ट्र के गवर्नर भगत कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को ‘हिंदुत्व का मजबूत समर्थक’ बताते हुए एक व्यंगात्मक पत्र लिखा था। इस पत्र में उन्होने लिखा था कि ‘ये जानकर बेहद हैरानी हो रही है कि क्या मुख्यमंत्री को ‘पूजा के स्थानों के फिर से खोले जाने के कदम को स्थगित करने के लिए कोई दैवीय आदेश मिल रहा है।’ या फिर वह स्वयं को ‘धर्मनिरपेक्ष’ बना चके हैं। एक शब्द जिससे वह(ठाकरे) नफरत किया करते थे।’

अमित शाह बोले पूरा पत्र पढ़ा है

वहीं गृह मंत्री अमित शाह से एक टीवी चैनल के ये सवाल पूछे जाने पर कि पार्टी ने कोश्यारी की टिप्पणी को किस तरह से लिया है। तो इस पर उन्होने कहा कि, उन्होने पत्र पढ़ा है। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि, ‘उन्होने एक चलताऊ संदर्भ दिया है, मगर मुझे भी लगता है कि शब्दों का चयन उन्होने टाला होता तो ज्यादा अच्छा रहता। लेकिन इसके साथ ही मेरा यह भई मानना है कि वह उन विशेष शब्दों के चयन से बच सकते थे।’

शेयर करें