28 छात्रों की याचिका पर HC ने कहा, ‘dl.ed चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा टालने पर गौर करें’

28 छात्रों की याचिका पर HC ने कहा, 'dl.ed चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा टालने पर गौर करें'

लखनऊ। इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ ने dl.ed के तीसरे सेमेस्टर के बैक पेपर वाले विद्यार्थियाें की याचिका पर बेसिक शिक्षा विभाग व अन्य पक्षकारों को निर्देश दिया है कि 9 से 11 नवंबर तक होने वाली dl.ed चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा हफ्ते भर टालने पर विचार किया जाए। कोर्ट ने कहा कि इससे यचियों की तरह के अन्य छात्र भी अपने बैक पेपर की परीक्षा पास करने की दशा में चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा नियमित स्टूडेंट्स के साथ हो सकेगे। यह आदेश न्यायमूर्ति संगीता चंद्रा की पीठ ने सोमवार को याची लवकुश कुमार समेत 28 छात्रों की याचिका पर दिया।

यह भी पढ़े : फ्रांस और अर्मेनिया के विदेश मंत्रियों ने नागोर्नो-काराबाख में संघर्ष विराम लागू करने पर की चर्चा

62,542 बैक पेपर वाले स्टूडेंट्

याचियों के अधिवक्ता अमित सिंह भदौरिया का कहना था कि डिप्लोमा इन एलेमेंट्री एजूकेसन (dl.ed) वर्ष 2018 बैच के तृतीय सेमेस्टर वाले यचियों को 30 अक्तूबर से सात नवंबर तक होने वाली बैक पेपर परीक्षा पास करनी है। जबकि चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा नौ से 11 नवंबर तक होनी है। जिसमें बिना बैक पेपर वाले स्टूडेंट्स को शामिल किया जा रहा है। ऐसे में यचियों की तरह बैक पेपर वाले स्टूडेंट्स को नियमित स्टूडेंट्स के साथ चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा में बैठने का मौका नहीं मिलेगा और उनके हित प्रभावित होंगें। अधिवक्ता के मुताबिक़ प्रदेश भर के 79,375 स्टूडेंट्स को चतुर्थ सेमेस्टर की होने वाली परीक्षा में शामिल किया गया है जबकि 62,542 बैक पेपर वाले स्टूडेंट्स हैं। उधर,बेसिक शिक्षा विभाग व अन्य पक्षकारों की ओर से सरकारी वकील पेश हुए।

यह भी पढ़े : बिग बॉस सीजन 14 में हुआ शॉकिंग एविक्शन, शो के सीनियर्स ने लिया फ्रेशेर्स का नाम

हलफ़नामा दाखिल करने को तीन हफ्ते का समय

न्यायालय ने सुनवाई के बाद बेसिक शिक्षा विभाग व अन्य पक्षकारों- राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद व परीक्षा नियामक प्राधिकारी को निर्देश दिया कि डीएलएड चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा हफ्ते भर टालने पर विचार करें, जिससे यचियों की तरह के अन्य स्टूडेंट्स अपने बैक पेपर की परीक्षा पास करने की दशा में चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा नियमित स्टूडेंट्स के साथ दे सकें। न्यायालय ने इस बीच पक्षकारों को जवाबी हलफ़नामा दाखिल करने को तीन हफ्ते का समय दिया है। इसके बाद एक सप्ताह में यचियों की तरफ से प्रति उत्तर भी दायर किया जा सकेगा।

Related Articles

Back to top button