भ्रष्टाचार में लिप्त एक सैंकड़ा पुलिसकर्मी ‘स्क्रीनिंग कमेटी’ के रडार पर, रिटायरमेंट के जरिए सेवा से मुक्ति

भ्रष्टाचार में लिप्त 100 पुलिसकर्मियों को ‘रिटायरमेंट’ के जरिए सेवा से मुक्ति दी जाएगी

इटावा: उत्तर प्रदेश के इटावा मे 50 साल की उम्र पार कर चुके अक्षम और भ्रष्टाचार मे शामिल पांच पुलिसजनो को अनिवार्य सेवानिवृत्ति के बाद अब एक सैंकड़ा पुलिसजनो पर गाज गिरेगी। सभी स्क्रीनिंग कमेटी के ‘रडार’ पर है।

सेवानिवृत्ति की कार्यवाही

इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ‘आकाश तोमर’ ने कहा कि सरकार के स्तर पर उन पुलिसजनो के खिलाफ अनिवार्य सेवानिवृत्ति की कार्यवाही की जा रही है जो ना केवल अक्षम है बल्कि भ्रष्टाचार के दायरे मे भी आते है ।

रडार पर एक सैकड़ा पुलिसकर्मी

तोमर ने कहा कि 5 पुलिसकर्मियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के बाद अब नए सिरे से एक सैकड़ा पुलिसकर्मियों को रडार पर लिया गया है जिनकी कमेटी के जरिए स्क्रीनिंग की जा रही है ।

सेवानिवृत्ति के जरिए सेवा से मुक्ति

जल्दी ही सभी 100 पुलिसकर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति के जरिए सेवा से मुक्ति दे दी जाएगी। यह सब पुलिसकर्मी कहीं ना कहीं कार्य करने में अक्षम तो ही है या फिर उनका आचरण पुलिस नियमावली के अनुसार उचित नहीं है। ऐसे सभी पुलिसकर्मियों को इस दायरे में रखा गया है।

भ्रष्टाचार के आरोप

अनिवार्य सेवानिवृत्ति वाली लिस्ट में शामिल इन पुलिस कर्मियों पर कई तरह के भ्रष्टाचार के आरोप भी लगे हैं जिन की विभिन्न स्तर पर गहनता से पड़ताल कराई जा रही है।

यह भी पढ़े:IPL 2020: बैंगलोर के टूर्नामेंट से बाहर होने पर गंभीर ने कोहली पर उठाए सवाल

यह भी पढ़े:छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश ने कहा- “बच्चे शिक्षा, हुनर और खेलकूद के कौशल से बनाए अपनी विशिष्ट पहचान”

Related Articles

Back to top button