मां की धार्मिक अपील पर आतंकियों ने जवान को रिहा किया, दो दिन पहले किया था अपहरण

0

श्रीनगर: दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में दो दिन पहले आतंकवादियों ने पुलिसकर्मी मुदासिर अहमद लोन को अगवा कर लिया था। अगवा होने की खबर के बाद से ही पुलिस और सुरक्षाबलों ने सर्च अभियान शुरु कर है। इस बीच सैन्य कार्रवाई के डर और मां की अपील के बाद आतंकियों ने जवान को छोड़ दिया है।मुदस्सिर अहमद लोन आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि शुक्रवार रात के वक्त तीन आतंकी त्राल के चांकतार में एसपीओ मुदासिर अहमद लोन के घर घुस गए और उन्हें पकड़कर अज्ञात स्थान पर ले गए। मुदासिर अंवतीपोरा के राशिपुरा चौकी में रसोइए का काम करते हैं।

मां ने आतंकियों से की थी अपील

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, जवान की मां ने शनिवार शाम सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट कर अपील की  थी। वीडियो में उन्होंने आतंकियो से कहा था कि अल्ला की खातिर उनके बेटे को माफ कर रिहा दें। वह उनका इकलौता बेटा है और उसके सहारे ही तीन बहनों और घर का खर्च चलता है। उन्होंने ये भी कहा कि वह अपनी नौकरी छोड़ देगा। इसके कुछ घंटे बाद ही आतंकियों ने मुदासिर को छोड़ दिया।

आतंकियों ने नौकरी छोड़ने धमकी दे रिहा किया

आतंकियों ने जवान को इस चेतावनी के साथ छोड़ा है कि वह अपनी नौकरी खुद इस्तीफा देगा और अन्य एस।पी।ओ। से भी दिलवाएगा। सूत्रों के मुताबिक पुलिसकर्मी केअपहरण की यह घटना पुलवामा के त्राल इलाके में हुई है। त्राल को हिजबुल मुजाहिदीन का गढ़ माना जाता रहा है।

20 जुलाई को की थी सलीम जवान की थी हत्या 

गौरतलब है कि हाल ही में आतंकियों ने कुलगाम से पुलिस कांस्टेबल मोहम्मद सलीम शाह और शोपियां से पुलिसकर्मी जावेद अहमद डार को अगवा किया था। आतंकियों ने सलीम की हत्या भी कर दी थी। इसकी जिम्मेदारी हिज्बुल मुजाहिद्दीन ने ली थी।

सेना के जवान औरंगजेब का अपहरण कर हत्या की थी

वहीं इसी तरह आतंकियों ने सुरक्षाबल के जवान औरंगजेब का भी अपहरण करने के बाद हत्या कर दी थी। सेना की 44 राष्ट्रीय राइफल्स रेजीमेंट के जवान औरंगजेब का शव पुलवामा के गुस्सू गांव में बरामद किया गया था। इस वारदात से पहले औरंगजेब ईद पर अपने घर जाने के लिए निकले थे।

loading...
शेयर करें