लाइट लगवाने की फ़रियाद पर बोले विधायक जी, ‘बेटे के सर पर हाथ रख कसम खाओ की वोट दिए थे’

शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर में विधायक जी ने जनता से जो उदारता दिखाई है वो सुनने के बाद लगता है एक मौकापरस्त नेता प्रतिनिधि बनने के बाद क्या असर डाल सकता है। असर सकारात्मक तो कम ही देखे गए हैं पर ये असर नकारात्मकता की मिसाल बनने वाला है। शाहजहाँपुर में एक माननीये विधायक जी ने जनता की मांग पर उन्हें ही बच्चे की कसमें खाने को बोल दिया। शाहजहांपुर में सत्त्ता दल के विधायक पौधरोपण कर लोगों को हरियाली के प्रति जागरुक करने आए थे। इस बीच कुछ लोगों ने हाथ जोड़कर उनसे गांव में लाइट लगवाने की गुजारिश की, तो हरियाली का महत्व भूल वो उन लोगों को बेटे की कसम खिलाने लगे।

विधायक जी कसम इस बात कि खिलवा रहे कि चुनाव में उनको वोट दिया था या नहीं? गांव वाले कई बार बोले भी हुजूर आपको ही वोट दिया था। इसके बाद भी विधायक को उनपर यकीन नहीं हुआ। बोले, ठीक है तो फिर अपने बेटे के सिर पर हाथ रखकर कसम खाओ कि, तुमने मुझे ही वोट दिया था। अगर कसम खा लोगे तो, गांव में लाइट लग जाएगी। इसकी बकायदा वीडियो वायरल हुई है।

कार्यक्रम में चीफगेस्ट थे माननिये विधायक जी

फारेस्ट डिपार्टमेंट की ओर से जिले के कटरा विधानसभा के नगला ब्राहीम गांव में पौधरोपण कार्यक्रम था। कार्यक्रम में स्थानीय भाजपा विधायक वीर विक्रम सिंह बतौर मुख्य अतिथि कार्यक्रम में शामिल हुए थे। कार्यक्रम में पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए गांव वालों को भी बुलाया गया था। पौधारोपण करने के बाद विधायक गांव वालों को पर्यावरण का महत्व समझा रहे थे। कार्यक्रम में गांव वालों से बातचीत करते विधायक का वीडियो सामने आया है।

विधायक बोले-अपेक्षा के बदले कुछ देना पड़ता है

इसी बीच कुछ लोगों ने हाथ जोड़कर उनसे गांव में बिजली लगवाने की गुजारिश की। गुजारिश सुन माननिये विधायक जी भड़क उठे। बोले कि, जब तुमने मुझे वोट ही नहीं दिया तो मैं क्यों लाइट लगवाऊं। जब किसी से कोई अपेक्षा रखी जाती है तो उसको बदले में कुछ देना भी पड़ता है। तुम लोगों ने मुझे वोट नहीं दिया। न ही तुम्हारे गांव से मुझे वोट मिला था। फिर मैं क्यों तुम्हारी फरियाद सुनूं। इसपर गांव वालों ने विधायक को कई बार समझाने की कोशिश की। हाथ जोड़कर कहा, वोट आपको ही दिया था। लेकिन विधायक को उनकी बात पर भरोसा नहीं हुआ। इसके बाद विधायक के सामने गांव वाले खामोश हो गए और वहां से लौट गए।

ये भी पढ़ें : पूर्व IAS देश के नए Railway Minister बने, अटल सरकार में मिला था ये महवपूर्ण जिम्मा

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles